हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस के चारों आरोपियों को तेलंगाना पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया

0

हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। यह एनकाउंटर नेशनल हाइवे-44 के पास हुआ। तेलंगाना में महिला वेटनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म और हत्या के सभी चार आरोपियों को पुलिस एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी। पुलिस के मुताबिक, चारों आरोपियों ने मौके से भागने की कोशिश की। इसके बाद उनपर गोली चलाई गई। आरोपियों की मुठभेड़ में मारे जाने के बाद पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मुठभेड़ स्थल पर पहुंच गए है।

हैदराबाद

बता दें कि हैदराबाद शादनगर में जानवरों की डॉक्टर से रेप और हत्या के केस में पुलिस ने चारों आरोपियों शिवा, नवीन, केशवुलू और मोहम्मद आरिफ को पुलिस रिमांड में रखा था। बताया जा रहा है कि पुलिस जांच के लिए चारों को उस फ्लाइओवर के नीचे लेकर गई थी, जहां उन्होंने पीड़िता को आग के हवाले किया था। वहां क्राइम सीन को रीक्रिएट किया जा रहा था। इसी बीच चारों ने भागने की कोशिश की। इस पर पुलिस ने प्रतिक्रिया करते हुए गोलियां चलाईं और मुठभेड़ में चारों को ढेर कर दिया।

बता दें कि, हैवानियत भरे इस कांड के बाद से देश भर में उबाल था और चारों को फांसी दिए जाने की मांग उठ रही थी। जहां इन आरोपियों को लेकर जाया गया, इन्होंने रेप के बाद के डॉक्टर की हत्या करके शव को वहीं जलाया था।

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए सभी 4 आरोपियों पर हैदराबाद गैंगरेप विक्टिम के पिता ने कहा कि, कि मेरी बेटी की मौत हुए 10 दिन हो चुके हैं। मैं इसके लिए पुलिस और सरकार के प्रति आभार व्यक्त करता हूं। मेरी बेटी की आत्मा को अब शांति मिलेगी।

तेलंगाना में महिला डॉक्टर से दुष्कर्म और हत्या के सभी चार आरोपियों के एनकाउंटर में मारे जाने पर निर्भया की मां ने खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि मैं इस सजा से बेहद खुश हूं। पुलिस ने एक बड़ा काम किया है और मेरी मांग है कि पुलिस कर्मियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए।

गौरतलब है कि साइबराबाद पुलिस ने 29 नवंबर को मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया था और उन्हें शनिवार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। सभी आरोपियों की उम्र 24 साल से कम है। दुष्कर्म और हत्या की इस घटना के बाद देश के लोगों ने आक्रोश था और जल्द से जल्द न्याय की मांग कर रहे थे।

तेलंगाना सरकार ने मामले की जल्द से जल्द सुनवाई के लिए बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट गठित करने के आदेश जारी किये थे। राज्य सरकार ने मामले की जल्द सुनवाई के लिए महबूबनगर जिले में प्रथम अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश की अदालत को विशेष अदालत के रूप में नामित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here