JNU हिंसा मामले पर अभिनेता अजय देवगन ने तोड़ी चुप्पी, बोले- उचित तथ्यों का इंतजार करना चाहिए और कायम रहे भाईचारा

0

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अजय देवगन ने दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) परिसर में बीते दिनों हुई हिंसा को लेकर एक ट्वीट किया है, जो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। उन्होंने जेएनयू हिंसा को लेकर कहा कि वह तथ्यों के सामने आने का इंतजार करते हैं। देवगन ने लोगों से शांति और भाईचारे की भी अपील की है।

अजय देवगन
फाइल फोटो

गौरतलब है कि, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हिंसा के विरोध में लेफ्ट छात्रों के प्रदर्शन में अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के पहुंचने पर कुछ लोग उनकी नई फिल्म ‘छपाक’ के बहिष्कार का अभियान चला रहे हैं और इसके बदले अजय देवगन की फिल्म ‘तान्‍हाजी-द अनसंग वॉरियर’ देखने की अपील कर रहे हैं।

इस बीच अजय देवगन ने शुक्रवार को जेएनयू मुद्दे पर ट्वीट करते हुए लिखा, “मैंने हमेशा यह सुनिश्चित किया है कि हमें उचित तथ्यों का इंतजार करना चाहिए। मैं सभी से अपील करता हूं कि हम शांति और भाइचारे की भावना को आगे बढ़ाएं, न कि इसे जानबूझ कर या लापरवाही से आगे बढ़ाएं।”

5 जनवरी को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में हुई हिंसा को लेकर विवाद जारी है, इस पर जमकर राजनीति भी हो रही है। लेफ्ट के प्रदर्शन के दौरान दीपिका पादुकोण के पहुंचने के बाद यह विवाद फिल्म इंडस्ट्री तक पहुंच गया। भाजपा के कई नेताओं और समर्थकों ने दीपिका की फिल्म छपाक के बहिष्कार की अपील की तो सुझाव दिया कि साथ ही रिलीज हुई फिल्म ‘तान्‍हाजी: द अनसंग वॉरियर’ देखें।

बता दें कि, अजय देवगन की फिल्म ‘तान्हाजी: द अनसंग वॉरियर’ बीते शुक्रवार को रिलीज हो गई। फिल्म में अजय देवगन के साथ काजोल भी मुख्य किरदार में नजर आ रही हैं। फिल्म में अजय देवगन और काजोल के अलावा सैफ अली खान, पंकज त्रिपाठी और शरद केलकर भी मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म में अजय देवगन छत्रपति शिवाजी के सेनापति सूबेदार तान्हा जी मालुसरे के किरदार में नजर आ रहे हैं।

गौरतलब है कि, दीपिका पादुकोण जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रों पर हुए हमले के बाद अपनी एकजुटता दिखाने के लिए मंगलवार को जेएनयू पहुंची लेकिन उन्होंने वहां मौजूद लोगों को संबोधित नहीं किया। 34 वर्षीय अभिनेत्री दीपिका पादुकोण राष्ट्रीय राजधानी में अपनी आगामी फिल्म ‘छपाक’ के प्रचार के लिए आईं थी। उनके जेएनयू जाने को लेकर विवाद उत्पन्न हो गई जब एक वर्ग ने इसकी आलोचना की जबकि दूसरे वर्ग ने इसे सराहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here