मुश्‍किल में ‘एयरलिफ्ट’ अभिनेता इनामुल हक का परिवार, नहीं मिला किराए का घर, सोसाइटी पर प्रताड़ना का आरोप

0

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार के साथ फिल्‍म ‘एयरलिफ्ट’ सहित कई फिल्मों में दमदार भूमिका निभा चुके अभिनेता इनामुल हक ने मुंबई के वर्सोवा इलाके में स्‍थित एक सोसायटी के खिलाफ मानसिक तौर पर उनको और उनके परिवार को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। एयरलिफ्ट के अलावा जॉली एलएलबी-2 और फिल्मिस्तान जैसे फिल्मों में अभिनय कर चुके इनामुल ने सोसाइटी के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

फोटो: Mumbai Mirror

इनामुल ने वर्सोवा के कल्याण कॉम्पलेक्स स्थित दीप्ति शक्ति मुक्ति (डीएसएम) सोसाइटी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि, ‘मुझे किराये के नए घर में शिफ्ट करना था, लेकिन सोसाइटी के मैनेजमेंट ने मुझे कमिटी के सदस्यों से नहीं मिलने दिया। वे एक महीने तक मुझे टालते रहे।

पहले तो मुझे अपनी पत्नी और बच्चों को लाकर खुद के शादी शुदा होने का सबूत देने को कहा गया, जो कि हॉलिडे पर बाहर गए हुए थे। उनके लौटने पर हमें अपॉइन्टमेंट देने से मना कर दिया गया।’ इनामुल हक ने इस बारे में फेसबुक पर एक बड़ा पोस्ट कर भी घटना की जानकारी दी है। उनके इस पोस्ट को काफी शेयर किया जा रहा है।

‘My name is Inaamulhaq and I am not a Bachelor’… ! शीर्षक नाम से अपने पोस्ट में इनामुल लिखते हैं कि ‘ आप क्या करेंगे? अगर आपको कहा जाये कि आपको किराए पर मकान इसलिए नहीं दिया जा सकता क्योंकि आप ‘फलां धर्म’ से ताल्लुक रखते है।…आप शायद आगे बढ़ जायेंगे क्योंकि आप इस सच को नहीं बदल सकते कि आप वाकई ‘फलां धर्म’ से ताल्लुक रखते हैं।

उन्होंने आगे लिखा है, आप क्या करेंगे? अगर आपको कहा जाये कि आपको किराए पर मकान इसलिए नहीं दिया जा सकता, क्योंकि आप ‘फ़िल्म लाइन’ से ताल्लुक रखते हैं।…आप शायद आगे बढ़ जायेंगे, क्योंकि आप इस सच को नहीं बदल सकते कि आप वाकई ‘फिल्म-लाइन’ से ताल्लुक रखते हैं।

आप क्या करेंगे? अगर आपको कहा जाये कि आपको किराए पर मकान इसलिए नहीं दिया जा सकता, क्योंकि आप ‘बैचलर’ हैं। आप शायद आगे बढ़ जायेंगे क्योंकि आप इस सच को नहीं बदल सकते कि आप वाकई ‘बैचलर’ हैं। लेकिन तब आप क्या करेंगे? जब आप वाकई ‘बैचलर’ नहीं है। फिर भी आपको मकान इसलिए नहीं दिया जा रहा कि आप ‘बैचलर’ हैं?

क्योंकि आपके ‘बैचलर’ न होने का सबूत-आपकी ‘फ़ैमिली’, साल की इकलौती छुट्टी मनाने के लिए महानगर की आपाधापी से दूर अपने उस घर में गयी है जिसकी दीवारें, छतें, चबूतरे और आँगन उनके ख़ुद के हैं। उन्हें ‘शिफ्टिंग’ की भयानकता से दूर रखने के लिए आप फ़ैसला करते हैं कि उनके आने से पहले घर ‘जमा’ लिया जाये ताकि आने के अगले दिन से बच्चा अपने स्कूल जा सके और बीवी अपनी ज़िन्दगी वहीँ से शुरू करे जहाँ से वो छोड़ कर गयी थी।’

इनामुल ने काफी बड़ा पोस्ट लिखा है, पूरी पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here