कथित आतंकियों की गिरफ्तारी पर अहमद पटेल ने राजनाथ सिंह को लिखा पत्र, निष्पक्ष जांच की मांग

0

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने गुजरात में गिरफ्तार किए गए इस्लामिक स्टेट के एक संदिग्ध सदस्य के साथ उनके कथित संबंधों और इस विवाद में उनका नाम घसीटे जाने की कोशिशों की निष्पक्ष जांच कराए जाने की मांग की है।दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव पटेल सूरत से इस्लामिक स्टेट के दो संदिग्ध सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद पैदा हुए राजनीतिक घमासान के केंद्र में हैं।

File Photo: The Hindu

इनमें से एक संदिग्ध कासिम टिंबरवाला भरुच जिले में सरदार पटेल अस्पताल में काम करता था, जहां पटेल एक ट्रस्टी थे। हालांकि अहमद पटेल ने दावा किया है कि उन्होंने 2013 में ही अस्पताल से इस्तीफा दे दिया था। उधर, अस्पताल का भी कहना है कि अहमद पटेल या उनके परिवार का कोई सदस्य ट्रस्टी नहीं है।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह को लिखे पत्र में पटेल ने कहा कि बीजेपी इस मामले में उनका नाम घसीटकर उनकी छवि खराब करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने पत्र में लिखा कि मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप इस मामले पर संज्ञान लें और भारत का गृह मंत्री होने के नाते संबंधित कानून प्रवर्तन एजेंसियों को निष्पक्ष और वस्तुनिष्ठ तरीके से इस जांच को उसके तार्किक निष्कर्ष तक ले जाने का निर्देश दें।उन्होंने लिखा कि जो भी दोषी हो, उसे उसके धर्म या उसकी किसी संबद्धता पर ध्यान दिए बिना सजा देनी चाहिए। इस मामले में आपकी सरकार को मेरा पूर्ण समर्थन है। पटेल ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों को राजनीति का बंधक नहीं बना सकते और मामूली चुनावी फायदे के लिए राजनीतिक विरोधियों की छवि धूमिल नहीं करनी चाहिए।

पत्र में लिखा गया है कि यह आतंकवाद के खिलाफ चल रही हमारी लड़ाई के साथ बड़ा अन्याय होगा। इसलिए मुझे यह काफी चिंताजनक लगता है कि गुजरात में सत्तारूढ़ पार्टी चुनावों के मद्देनजर बेबुनियादी और अप्रमाणित आरोप लगाकर एक गंभीर जांच को नुकसान पहुंचा रही है।पटेल ने कहा कि जब राष्ट्रीय सुरक्षा की बात आती है तो सभी को राजनीतिक मतभेदों से पर उठना चाहिए। कांग्रेस नेता ने कहा कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों और न्यायपालिका को आतंकवाद के आरोप तय करने चाहिए, ना कि पार्टी मुख्यालय से संवाददाता सम्मेलन में नेताओं को।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here