रघुराम राजन ने कहा- RBI गवर्नर ‘नरम’ हो तो टीम के बीच सम्मान खोने का खतरा रहता है

0

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि यदि केन्द्रीय बैंक का प्रमुख ‘नरम’ है तो अपनी टीम के सदस्यों के बीच उसके सम्मान खोने का खतरा होता है।

रघुराम राजन

भाषा की खबर के अनुसार, उन्होंने न्यायपालिका की दृष्टि से भी गवर्नर के कार्यकाल की रक्षा किये जाने की भी वकालत की। राजन ने अपनी पुस्तक ‘‘ आई डू व्हाट आई डू’’ के लोकार्पण के दौरान कहा कि यकीनन केन्द्रीय बैंक के प्रमुख के लिए बेहतर प्रदर्शन करने के लिए कार्यकाल आवश्यक है। उन्होंने कहा ‘‘ यदि आप कोमल और अनुसेवी हैं तो आप अपने स्टाफ सदस्यों से सम्मान खो देते है।

रघुराम राजन ने कहा कि आप एक संस्थान में कितनी दूर तक जा सकते है जहां लोग आपकी पीठ पीछे से बात करते है कि आप बहुत अनुसेवी हैं, इसलिए लोग (कार्यालय में) बहुत जल्द खुद को मजबूत करते है।’’ उन्होंने कहा कि आरबीआई और सरकार के बीच हमेशा तनाव बना रहता है। उन्होंने स्वतंत्रता सुनिश्चित करने के लिए दोनों ‘‘कार्यकाल (गवर्नर का) और स्थान (आरबीआई का) की रक्षा करने का आहवान किया।

जबकि इससे पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा था कि केन्द्र सरकार के लिए रिजर्व बैंक गवर्नर कोई नौकरशाह नहीं है और उसे नौकरशाह समझना सरकार की भूल है। राजन ने अपनी नई किताब ‘आई डू व्हाट आई डू’(I Do What I Do) में इसका उल्लेख किया है।

राजन के मुताबिक, रिजर्व बैंक गवर्नर के अधिकारों की स्पष्ट परिभाषा नहीं होने का सबसे बड़ा खतरा यही है कि ब्यूरोक्रेसी लगातार उसकी शक्तियों को कम करने की कोशिश में रहती है। राजन की किताब  RBI गवर्नर के रूप में कई मुद्दों पर दिए गए उनके भाषणों का संकलन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here