अमित शाह ने राहुल गांधी को बताया ‘असंवेदशील’, स्मृति ईरानी बोलीं- राजनीतिक लाभ के लिए किसी भी हद तक गिर सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष

0

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे के मुद्दे पर बुधवार (30 जनवरी) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरते हुए एक बार फिर हमला बोला। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मुलाकात के एक दिन बाद राहुल गांधी ने बुधवार को दिल्ली में यूथ कांग्रेस के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए दावा किया है कि इस मुलाकात दौरान पर्रिकर ने उनसे कहा था कि राफेल डील बदलते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के वर्तमान रक्षा मंत्री यानी उनसे भी इस बारे में कोई सलाह नहीं ली थी और ना ही पूछा था।

उधर, राफेल मुद्दे पर राहुल गांधी के दावों का मनोहर पर्रिकर ने खंडन करते हुए कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर बहुत निराशा हुई है। राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए पर्रिकर ने बुधवार को एक पत्र जारी कर कहा कि आपने इस मुलाकात को अपने छोटे राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया है, क्योंकि इस दौरान राफेल के बारे में कोई जिक्र ही नहीं हुआ था।

गोवा के मुख्यमंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा कि मुझे काफी निराशा हुई कि आपने (राहुल गांधी) इस मुलाकात को अपने छोटे राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया है। आपने मेरे साथ पांच मिनट बिताए। इस दौरान न तो आपने राफेल के बारे में मुझसे कोई जिक्र किया और न ही हमने इससे संबंधित कोई चर्चा की।

स्मृति ईरानी और अमित शाह ने राहुल पर साधा निशाना

मनोहर पर्रिकर के पलवार के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट कर राहुल गांधी पर निशाना साधा है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर कहा है कि प्रिय राहुल गांधी, आपने दिखा दिया कि बीमारी से लड़ रहे व्यक्ति के नाम पर झूठ बोलकर आप कितने असंवेदनशील हैं। आपके लापरवाह व्यवहार से भारत के लोग घृणा करते हैं। अमित शाह ने आगे लिखा कि मनोहर पर्रिकर अपनी ट्रेडमार्क शैली में रिकॉर्ड सेट करते हैं। शाह ने अपने इस ट्वीट में पर्रिकर दावा जारी पत्र को भी शेयर किया है।

वहीं, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर पूछा है कि शिष्टाचार का बहाना बनाकर कांग्रेस अध्यक्ष ने किस संस्कार का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने राजनीतिक लाभ के लिए किस हद तक गिर सकते हैं यह इसका प्रमाण है। पर्रिकर द्वारा जारी पत्र को शेयर करते हुए केंद्रीय मंत्री ने लिखा, “शिष्टाचार का बहाना बनाके ये किस संस्कार का परिचय दिया राहुल गांधी ने। अपने राजनीतिक लाभ के लिए किस हद तक गिर सकते हैं राहुल ये इसका प्रमाण है।”

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, राहुल गांधी ने गोवा सीएम से मुलाकात का जिक्र करते हुए बुधवार को कहा, “मैं कल (मंगलवार) पर्रिकर जी से मिला, पर्रिकर जी ने स्वयं कहा था कि डील (राफेल) बदलते समय प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) ने हिंदुस्तान के रक्षा मंत्री से नहीं पूछा था।”

पीटीआई के मुताबिक, इससे पहले मंगलवार को राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए दावा किया था कि पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने स्पष्ट रूप से कहा था कि ‘नए सौदे’ से उनका कोई लेना-देना नहीं है। कोच्चि में कांग्रेस अध्यक्ष ने बूथ स्तरीय पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा, ‘दोस्तों, पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि नए सौदे से उनका कोई लेना-देना नहीं है, जिसे नरेंद्र मोदी ने अनिल अंबानी के फायदे के लिए किया।’

राहुल ने कल की थी मुलाकात

बता दें कि राहुल ने कल यानी मंगलवार को पणजी में राज्य सचिवालय परिसर में गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने उनकी तबीयत के बारे में पूछा। बहरहाल, राहुल गांधी ने ये स्पष्ट नहीं किया कि पर्रिकर के साथ बैठक के दौरान क्या इस मुद्दे पर चर्चा हुई। 63 वर्षीय सीएम पर्रिकर अग्नाशय संबंधी बीमारी से पीड़ित हैं। इस मुलाकात को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्रकारों से बात करने से इनकार कर दिया और कहा कि उन्हें देरी हो रही है।

यह मुलाकात ऐसे समय में हुई जब एक दिन पहले ही राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि ‘गोवा ऑडियो टेप’ प्रामाणिक हैं और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के पास इस मुद्दे से जुड़े ‘धमाका करने वाले राज” हैं। कांग्रेस ने इस टेप का हवाला देते हुए राफेल मुद्दे पर केंद्र पर हमला किया था। वहां पहुंचने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने विधानसभा परिसर में मुख्यमंत्री के चैम्बर में उनसे मुलाकात की। इसके बाद वह कांग्रेस विधायकों से 10 मिनट मुलाकात करने के बाद वहां से चले गए।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here