मनमोहन सिंह के गुस्से से भरे बयान के बाद, PM मोदी ने बदला अपना सुर, चुनावी रैली में करने लगे कुंभ मेला-योग-अमेरिका और इंग्लैंड की बातें

0

भारतीय सेना के पूर्व सेना प्रमुख (सेवानिवृत्त) दीपक कपूर ने गुजरात में चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘झूठ’ को उजागर किया है। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से गुजरात चुनाव में पाकिस्तानी हस्तक्षेप के लगाए गए आरोपों को पूर्व PM मनमोहन सिंह ने बेबुनियाद करार दिया है। तब PM मोदी ने अपना ट्रेक बदलते हुए गुजरात की चुनावी रैलियों में एक दूसरा ही राग अलापना शुरू कर दिया।

मनमोहन सिंह

प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात की चुनावी रैली में प्रचार के दौरान पिछले सप्ताह सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा था कि आखिर पाकिस्तानी उच्चायुक्त के साथ गुप्त बैठकें क्यों की गई थीं, उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान गुजरात चुनावों में हस्तक्षेप कर रहा है। पीएम मोदी ने आरोप लगाया था कि पाकिस्तान के उच्च पदों पर बैठे लोग गुजरात में पटेल को CM बनाने के लिए सहयोग की पहल कर रहे हैं।

मनमोहन सिंह ने अपनी इस पीड़ा को एक बयान के जरिए जारी करते हुए सोमवार (11 दिसंबर) को कहा कि पीएम के बयान पर हमें दुख और गुस्सा हुआ है। सिंह ने कहा कि मणिशंकर के यहां किसी से गुजरात चुनाव पर बात नहीं हुई है। चुनावों में अपनी हार की आशंका से पीएम मोदी बौखला गए हैं। मनमोहन ने कहा कि PM मोदी ने एक खतरनाक परंपरा की शुरुआत की है। कांग्रेस को राष्ट्रवाद पर किसी के ज्ञान की जरूरत नहीं है।

मनमोहन सिंह ने एक बयान जारी कर PM मोदी की पाकिस्तान यात्रा का भी जिक्र किया और कहा कि, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को याद दिला दूं कि ऊधमपुर और गुरदासपुर में आतंकवादी हमले के बाद बिना बुलाए पाकिस्तान गए। उन्हें देश को यह भी बताना चाहिए कि आतंकवादी हमले की जांच के लिए पाकिस्तान की कुख्यात एजेंसी आईएसआई को पठानकोट एयरबेस में क्यों बुलाया गया?’

मनमोहन सिंह ने कहा कि 5 दशक के सार्वजनिक जीवन का उनका ट्रैक रिकॉर्ड सबको पता है और मोदी सहित कोई भी उनपर सवाल नहीं उठा सकता। पीएम मोदी के आरोपों से खुद को दुखी बताते हुए पूर्व पीएम ने कहा, ‘मणिशंकर अय्यर के द्वारा आयोजित डिनर में मैंने किसी के साथ गुजरात चुनाव पर चर्चा नहीं की। यह मुद्दा किसी दूसरे के द्वारा भी नहीं उठाया गया। चर्चा भारत-पाकिस्तान रिश्तों तक सीमित थी।’ उन्होंने पीएम मोदी से माफी की मांग करते हुए उम्मीद जताई कि वह गंभीरता दिखाएंगे।

मनमोहन सिंह ने बैठक में शामिल लोगों के नाम भी बताए हैं। इस सूची में कुल 19 लोगों के नाम हैं। जिनमें मणिशंकर अय्यर और उनकी पत्नी, खुर्सीद कसूरी, हामिद अंसारी, डॉ. मनमोहन सिंह, के. नटवर सिंह, केएस बाजपेयी, अजय शुक्ला, शरद सभरवाल, जनरल दीपक कपूर, टीसीए राघवन, सती लांबाह, पाकिस्तानी उच्चायुक्त, एमके भद्रकुमार, सीआर घरेखान, प्रेम शंकर झा, सलमान हैदर और राहुल खुशवंत सिंह का नाम शामिल है।

इस बीच, पीएम मोदी ने सोमवार को अहमदाबाद में एक और रैली को संबोधित किया, अपने भाषण में उन्होंने सारा ध्यान पाकिस्तान से हटाते हुए अमेरिका, इंग्लैंड से गुजराती मतदाताओं ने किस प्रकार से योग की प्रभावों को जाना है इस बारें में था। इसके बाद उन्होंने मतदाताओं का ध्यान कुंभ मेला और ईवीएम के बारें मेें जानकारी देने में लगा रहा। जबकि गुजरात में भाजपा के 22 सालों के शासन और गुजरात के विकास में बारें में प्रधानमंत्री ने चुप्पी साधे रखी और अपने भाषण में कोई भी बात गुजरात के विकास से जुड़ी हुई नहीं कहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here