राज्यसभा चुनाव से पहले राजस्थान में सियासी हलचल तेज: कर्नाटक और मध्य प्रदेश के बाद BJP ने कथित तौर पर गहलोत सरकार को गिराने का प्रयास किया, कांग्रेस नेता ने भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में दर्ज कराई शिकायत

0

राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए होने वाले चुनाव से पहले राज्य में राजनीतिक राजनीति गरमा गई हैं। राजस्थान विधानसभा में मुख्य सचेतक महेश जोशी ने आरोप लगाया है कि कर्नाटक और मध्‍य प्रदेश की तर्ज पर राजस्‍थान की कांग्रेस सरकार को भी अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है।

राजस्थान

उन्होंने भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) में शिकायत दर्ज कराई कि राज्य सरकार को अस्थिर करने के लिए कांग्रेस व उसके समर्थक निर्दलीय विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा है। जोशी ने एसीबी के महानिदेशक को भेजी शिकायत में कहा है, ‘अति विश्वस्त सूत्रों से मेरी जानकारी में आया है कि कर्नाटक, मध्य प्रदेश व गुजरात की तर्ज पर राजस्थान में भी हमारे विधायकों व हमारा समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायकों को भारी प्रलोभन देकर राज्य की लोकतांत्रिक तौर से चुनी हुई जनसेवा को समर्पित सरकार को अस्थिर करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा है।’ जोशी ने इस तरह के लोगों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है। हालांकि, उन्होंने अपने पत्र में ऐसा प्रयास करने वाली किसी पार्टी या नेता का नाम नहीं लिया है।

एसीबी के महानिदेशक आलोक त्रिपाठी ने पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए कहा कि शिकायत पर उचित कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘शिकायत मिली है और इसकी जांच होगी।’ इस बीच, आगामी राज्यसभा चुनावों को लेकर चर्चा करने के लिए कांग्रेस व उसके समर्थक विधायक बुधवार शाम को मुख्यमंत्री निवास पर पहुंचे। यहां से उन्हें बसों से दिल्ली राजमार्ग पर स्थित एक रिसॉर्ट पर ले जाया गया। इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी वहां पहुंचे।

वहीं, राज्यसभा चुनाव पर चर्चा के लिए जयपुर पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस के पास सम्पूर्ण बहुमत है और उसके विधायक किसी प्रलोभन में नहीं आएंगे। भाजपा द्वारा कुछ निर्दलीय विधायकों को कथित तौर पर प्रलोभन दिए जाने के सवाल पर सुरजेवाला ने कहा कि राजस्थान की वीर भूमि में भाजपा के षडयंत्रकारी मंसूबे कामयाब नहीं होंगे। पार्टी के उम्मीदवारों की जीत के प्रश्न पर सुरजेवाला ने कहा,’ कांग्रेस के पास सम्पूर्ण बहुमत है.. और वो आपके सामने है। मैंने जैसा कहा ना जनमत को कोई हरा सकता, ना प्रजातंत्र को हरा सकता।’

उन्होंने कहा कि बार बार जनमत का चीरहरण करना भाजपा का चाल, चेहरा, चरित्र बन गया है। वहीं कांग्रेस नेता विवेक बंसल ने भाजपा पर लोकतंत्र को तार-तार करने का आरोप लगाया। उन्होंने राज्य में पार्टी के दोनों प्रत्याशियों की जीत का विश्वास जताया।

उधर भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रही है। उन्होंने कहा- भले ही वह कांग्रेस भाजपा पर आरोप लगाए लेकिन उनका खुद का घर सुरक्षित नहीं है, उनको अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है और इसलिए इस तरीके की नौबत आज कांग्रेस पार्टी के भीतर आई।

बता दें कि, राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए द्विवार्षिक चुनाव 19 जून को होने हैं। इन चुनाव के लिए कांग्रेस ने के सी वेणुगोपाल ओर नीरज डांगी को अपना उम्मीदवार बनाया है जबकि भाजपा ने राजेन्द्र गहलोत को उम्मीदवार बनाया था हालांकि अंतिम क्षणों में भाजपा के ओंकार सिंह लखावत ने भी पर्चा दाखिल किया। राज्य की 200 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस के 107 विधायक हैं। इनमें छह विधायक पिछले साल बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए। इसके अलावा 13 निर्दलीय विधायकों में से 12 कांग्रेस का समर्थन कर रहे हैं। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here