भीमा कोरेगांव हिंसा: फरीदाबाद से मानवाधिकार कार्यकता सुधा भारद्वाज गिरफ्तार, पुणे पुलिस ने की गिरफ्तारी

0

पुणे की स्थानिय अदालत से जमानत याचिका खारिज होने के बाद पुणे पुलिस ने मानवाधिकार कार्यकता सुधा भारद्वाज को देश का राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में उनके अवास से गिरफ्तार कर लिया है।

सुधा भारद्वाज
फाइल फोटो: सुधा भारद्वाज

पुणे की एक अदालत ने शुक्रवार को सुधा भारद्वाज, वर्नोन गोंसाल्विस और अरुण फेरेरा की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। कथित माओवादियों से संबधों की वजह से इन्हें गिरफ्तार किया गया था। एनडीटीवी में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, दूसरी तरफ दो अन्य एक्टिविस्ट वर्नोन गोंसाल्विस और अरुण फेरेरा को भी 6 नवंबर तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है।

जिला और सत्र न्यायाधीश (विशेष न्यायाधीश) के डी वडाणे ने भारद्वाज, गोंसाल्विस और अरुण फेरेरा की जमानत याचिका खारिज कर दी। पुणे पुलिस ने इन तीनों को कवि पी वरवरा राव और गौतम नवलाखा के साथ 31 दिसंबर को हुए एल्गार परिषद सम्मेलन से कथित संबंध के मामले में 28 अगस्त को गिरफ्तार किया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इन्हे नजरबंद कर दिया गया था।

गौरतलब है कि एक जनवरी 2018 को पुणे के पास भीमा-कोरेगांव लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ पर एक समारोह आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन के बाद ही कथित तौर पर भीमा-कोरेगांव हिंसा भड़की थी। जहां हिंसा होने से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। पुलिस ने आरोप लगाया है कि इस सम्मेलन के कुछ समर्थकों के मओवादी से संबंध हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here