उत्तर प्रदेश के गोंडा में सो रही 3 दलित नाबालिग बहनों पर एसिड अटैक, तीनों अस्पताल में भर्ती; एक का चेहरा झुलसा

0
4
उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश में महिला के खिलाफ अपराध थमने का नाम नहीं ले रहा है, जिसका ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला है। प्रदेश के गोंडा जिले में तीन दलित बहनों पर एसिड फेंका गया है। घटना बीती रात की है और तीनों बहनें नाबालिग हैं। तीनों बहनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि तीनों जब घर में सोई थी, तब उनके ऊपर एसिड फेंका गया है।

उत्तर प्रदेश

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, बड़ी बहन की उम्र करीब 17 साल है जो करीब 30 फीसद जल गई है। वहीं, मंझली लड़की की उम्र 12 साल है जो करीब 20 फीसद जल गई है और छोटी लड़की की उम्र 8 साल है जो 5-7 फीसद जली है। तीनों बहने अपने घर में एक ही कमरे में सो रही थीं और देर रात करीब 2 बजे तेज़ाब फेंकने वाला शख्स बाहर से छत के रास्ते घर में घुसा और तेज़ाब फेंक कर भाग गया। लड़कियों की चीख सुन कर उनके पिता उनके कमरे में पहुंचे तब उन्हें इसकी जानकारी हुई।

गोंडा के एस पी शैलेन्द्र कुमार पांडेय ने कहा कि, “घर वालों ने तेज़ाब फेंकने के लिए किसी पर शक ज़ाहिर नहीं किया है। इसलिए अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है लेकिन शक है कि इसमें किसी जानने वाले का हाथ हो सकता है।”

घटना के बाद से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। तीनों बहनों पर एसिड किसने फेंका, क्यों फेंका इसकी पुलिस जांच कर रही है। मौके पर पहुंची पुलिस ने आस-पड़ोस के लोगों के बयान दर्ज किए। पुलिस की फॉरेन्सिक टीम और डॉग स्क्वाड भी मौके पर छानबीन कर रहा है।

 

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भले ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर लाख दावे कर रही हो, लेकिन हकीकत इससे काफी दूर है। राज्य से रोज मासूम बच्चियों और महिलाएं से रेप व छेड़छाड़ की कोई न कोई घटनाएं सामने आती ही रहती है, जो चीख-चीखकर बता रही हैं कि यूपी में महिलाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है। राज्य में हाल ही में एक के बाद एक रेप की कई वारदातें सामने आई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here