छवि सुधारने केलिए अरविन्द केजरीवाल की सरकार ने ली PR एजेंसी की मदद

1

दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने अपनी छवि में सुधार और मीडिया मैनेजमेंट केलिए एक महंगी PR कंपनी की सेवा हासिल करने का फैसला किया है।

कंपनी का नाम है परफेक्ट रिलेशन्स और यह आम लोगों के बीच सारकर की छवि को सुधारने केलिए काम करेगा.

न्यूज़ एजेंसी ANI के अनुसार, कंपनी की फीस विज्ञापन केलिए पहले से निर्धारित 200 करोड़ रूपये में से दी जायेगी।

AAP convener Arvind Kejriwal takes charge as Delhi Chief Minister at Delhi Secretariat in New Delhi on Saturday--Photo By pankaj Nangia
AAP convener Arvind Kejriwal takes charge as Delhi Chief Minister at Delhi Secretariat in New Delhi on Saturday

सरकार ने कंपनी की सेवा हासिल करने की पुष्टि कर दी है। बुधवार को परफेक्ट रिलेशन्स ने सरकार और पार्टी की ओऱ से एक प्रेस विज्ञप्ति भी भेजी थी।

उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पत्रकारों से बात करते हुए साफ़ किया कि परफेक्ट रिलेशन्स नामी PR एजेंसी को दो सौ करोड़ रूपये देने की बात का कोई आधार नहीं है।

सूत्रों के अनुसार परफेक्ट रिलेशन्स का चुनाव काम से काम पांच कंपनियों में से किया गया था और सरकार के कामों को मीडिया में पहुंचाने और होर्डिंग्स और दूसरी पब्लिसिटी केलिए इसे सालाना दो करोड़ रूपये की फीस दी जायेगी।

एनडीटीवी की एक खबर के अनुसार PR कंपनी की सेवाएं लिया जाना बेहद ज़रूरी हो गया था, क्योंकि सभी सरकारी विभागों के अलावा उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, राज्य के अन्य मंत्रियों तथा विधानसभा का कामकाज संभालने के लिए विभाग में काफी कम लोग हैं, और पीआर फर्म की मदद से सरकार का सूचना और प्रचार विभाग भी प्रोफेशनल तरीके से काम कर पाएगा।

आम आदमी पार्टी ने जब फरवरी 2014 में दिल्ली में ऐतिहासिक जीत हासिल की थो इस का श्रेय पार्टी की साफ़ सुथरी छवि और आम लोगों के साथ इस के सीधे संपर्क करने पर ज़ोर को दिया गया था।

लेकिन सरकार बनी तो आप और अरविन्द केजरीवाल के आलोचकों ने पार्टी पर VIP कल्चर अपनाने का आरोप लगाया। खुद इस के समर्थकों ने भी दिल्ली सरकार द्वारा विज्ञापन पर 526 करोड़ रूपये करने के फैसले की निंदा की।

पार्टी पर ये भी इलज़ाम लगा कि ये दिल्ली के टैक्स अदा करने वालों का पैसा दुसरे राज्यों के अखबारों में विज्ञापन पर खर्च कर रही है।

जवाब में आप पार्टी ने भाजपा शासित राज्यों की मिसाल देते हुए कहा कि जब वो ऐसा कर सकते हैं तो दिल्ली सरकार की ही आलोचना क्यों?

1 COMMENT

  1. सरकार में बने रहने के लिए और आगे कुछ कर दिखाने के लिए एक बहुत अहम फैसला हो सकता है और ऐसा करना भी चाहिए

LEAVE A REPLY