VIDEO: मनोज तिवारी द्वारा दिल्ली में ‘एंटी-रोमियो स्क्वॉड’ शुरू करने की मांग पर भड़के AAP सांसद संजय सिंह

0

उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद और दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने एंटी-रोमियो स्क्वॉड के कामकाज की तारीफ की है। उन्होंने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश की तर्ज पर राष्ट्रीय राजधानी में भी ऐंटी रोमियो स्क्वॉड की आवश्यकता है। मनोज तिवारी के इस बयान पर आप सांसद संजय सिंह की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि वह दिल्ली में ऐंटी रोमियो स्क्वॉड कभी लागू नहीं होने देंगे।

 

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि, “एंटी-रोमियो स्क्वॉड बड़ा अच्छा काम कर रहा है। यह उत्तर प्रदेश में फिर से सक्रिय हो गया है। यह महिलाओं की सुरक्षा से जुड़ा हुआ है। लिहाजा इसका स्वागत किया जाना चाहिए। मेरा मानना है कि दिल्ली में भी एंटी-रोमियो स्क्वॉड को सक्रिय किया जाना चाहिए।”

इस बीच, नोएडा पुलिस ने कहा है कि पुलिस के एंटी-रोमियो स्क्वॉड महिलाओं को परेशान करने वाले अपराधियों को रेड कार्ड जारी करेंगे। एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा कि, “हमने जिले भर में एंटी रोमियो स्क्वॉड को सक्रिय कर दिया है। अपराधियों को सख्त कार्रवाई की चेतावनी देते हुए रेड कार्ड जारी दिया जाएगा।”

सत्ताधारी आप आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने आजतक से बात करते हुए कहा कि, दिल्ली में ऐंटी रोमियो स्क्वॉड कभी लागू नहीं होने देंगे। बीजेपी नेताओं की गुंडागर्दी बढ़ जाएगी। स्क्वॉड के खाकी वर्दीधारी राह चलते बाप-बेटी को भी परेशान करने लग जाएंगे। लखनऊ और यूपी के अन्य शहरों की घटनाएं सबको याद हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस की नाकामी को छुपाने के लिए ऐंटी रोमियो स्क्वॉड की बात की जा रही है।

साथ ही उन्होंने तहा कि, अगर बीजेपी को महिला सुरक्षा की इतनी फिक्र है, तो दिल्ली सरकार द्वारा उठाए जा रहे मेट्रो-बसों में फ्री यात्रा जैसी योजनाओं का स्वागत करे। हम इसे (ऐंटी रोमियो स्क्वॉड) लागू नहीं होने देंगे और इसका विरोध करेंगे।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के तकरीबन एक महीने बाद ही मई, 2017 में सीएम योगी आदित्यनाथ ने मनचलों पर रोक लगाने के लिए एंटी रोमियो स्कवॉड शुरू किया गया था। इसकी चर्चा अखबार और टीवी से लेकर सोशल मीडिया तक हुई, इसे आलोचना का भी शिकार होना पड़ा।

कुछ पुलिसकर्मियों की गलतियों के चलते इसकी आलोचना हुई फिर इसे वापस भी लेना पड़ा। इस दौरान यूपी पुलिस पर आरोप लगा था कि एंटी रोमियो स्कवॉड के तहत यूपी पुलिस ने युवक-युवतियों और प्रेमी युग्लों को बेवजह परेशान किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here