AAP ने चुनाव आयोग से की पीएम मोदी की शिकायत, अर्नब गोस्वामी को दिए इंटरव्यू में विंग कमांडर अभिनंदन पर दिए बयान को बताया आचार संहिता का उल्लंघन

0

प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019 से पहले गुरुवार को अर्नब गोस्वामी के हिंदी चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ को एक विस्तृत इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने कई बड़े सवालों के जवाब दिए हैं। उन्होंने बेरोजगारी, सेना, आतंकवाद से लेकर तमाम मुद्दों पर जवाब दिया है। चैनल के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को दिए इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कांग्रेस सहित विपक्ष से लेकर पुलवामा आतंकी हमला, पाकिस्तान के खिलाफ एयर स्ट्राइक, वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान की वापसी, पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान पर भी वे खुलकर बोले।

हालांकि, यह इंटरव्यू विवादों में फंसता हुआ नजर आ रहा है। दिल्ली में सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने शुक्रवार (29 मार्च) को लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रिपब्लिक भारत को दिए इंटरव्यू में सैन्य बलों का जिक्र किए जाने को लेकर चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन होने की चुनाव आयोग से शिकायत की है। आप ने निर्वाचन आयोग से शिकायत की कि प्रधानमंत्री मोदी ने इंटरव्यू में विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का हवाला देकर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है।

बता दें कि विंग कमांडर अभिनंदन का नाम पाकिस्तान में आतंकवादी ठिकानों पर की गई भारतीय वायु सेना की कार्रवाई के दौरान चर्चा में आया था। पार्टी ने शिकायत में कहा कि आयोग ने सैन्य कर्मियों के पराक्रम से जुड़ी घटनाओं का जिक्र और उनकी तस्वीरों के चुनावी लाभ के लिए प्रचार अभियान में इस्तेमाल करने से बचने का सभी राजनीतिक दलों को स्पष्ट निर्देश दिया था। आयोग ने चुनाव प्रचार में सैन्य अभियानों के इस्तेमाल को आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन बताया है।

आप ने बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर हैंडिल से प्रधानमंत्री मोदी के सैन्य बलों के बारे में दिए गए वक्तव्यों का भी शिकायत में जिक्र करते हुए कहा है कि यह आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन है। पार्टी ने आयोग से इस पर संज्ञान लेते हुए तत्काल कार्रवाई करने की मांग की।

इसके अलावा आयोग को लिखे पत्र में आम आदमी पार्टी के विधि प्रकोष्ठ के सदस्य मोहम्मद इरशाद ने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि पीएम मोदी ने पाकिस्तान में पकड़े गए विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान के एक हालिया इंटरव्यू का इस्तेमाल अपने भाषण में राजनीतिक लाभ लेने की नीयत से किया, जो पूरी तरह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है।

पत्र में कहा गया है, “मैं निर्वाचन आयोग से अनुरोध करना चाहूंगा कि देश के सबसे ऊंचे पद पर आसीन व्यक्ति, स्वयं प्रधानमंत्री द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन किए जाने पर संज्ञान ले और कानून के मुताबिक उचित कार्रवाई करे।” इरशाद ने पत्र में कहा है कि निर्वाचन आयोग ने विशेष निर्देश दिए हैं कि चुनाव प्रचार के दौरान किसी रक्षाकर्मी की तस्वीर का इस्तेमाल या सशस्त्र बलों का कोई संदर्भ दिया जाना आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा।

बता दें कि रिपब्लिक भारत को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कहा, “जब अभिनन्दन की घटना घटी तो देश के सभी दलों को कहना चाहिए था कि हमें देश की सेना पर गर्व है की उसने F16 मार गिराया। उसकी बजाय ये अभिनन्दन वापस कब आएगा, इसपर चल पड़े।” उन्होंने आगे कहा, “उस दिन रात को विपक्ष ने कैंडल लाइट मार्च निकलने और पुलवामा हमले को मुद्दा बनाने का षड्यंत्र तैयार कर लिया था। वो तो शाम को 4-5 बजे तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अभिनन्दन की रिहाई की घोषणा कर दी। जिससे इनकी योजना धरी की धरी रह गयी।”

इसके अलावा चुनाव आयोग को एक दूसरा पत्र आप उम्मीदवार और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता ने लिखा है, जिसमें उन्होंने दिल्ली में चुनाव प्रचार के दौरान आ रहीं समस्याओं का जिक्र किया है। गुप्ता ने लिखा है, “हमें एलसीडी डिस्प्ले और लाउडस्पीकर लगे ई-रिक्शा के उपयोग के लिए सीईओ की अनुमति सात दिनों बाद भी नहीं मिली है।” उन्होंने आयोग से आग्रह किया है कि अनुमति संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए अधिकृत किसी एक अधिकारी का नाम बताया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here