मध्य प्रदेश में जन्म के 22 मिनट बाद ही बन गया राखी का आधार कार्ड

0

मध्य प्रदेश के सबसे पिछड़े जिले झाबुआ में ‘आधार कार्ड’ पंजीयन के मामले में नया रिकॉर्ड बनाया है। यहां जन्म के 22 मिनट बाद एक दंपति ने अपने नवजात का आधार के लिए पंजीयन कराया। इसी जिले में तीन दिन पहले जन्म के डेढ़ घंटे बाद नवजात का आधार कार्ड के लिए पंजीयन हो गया था।
jhabua-aadhar-newborn

Also Read:  SP नेता का योगी सरकार पर हमला, कहा- भगवा गमछे डालकर गुंडागर्दी करने वालों सुधर जाओ, नहीं तो सपा वालों से पुलिस भी नहीं बचा पाएगी

मामला थांदला विकासखंड के खवासा सेक्टर के अंतर्गत आने वाले गांव रतनाली का है। यहां गुड्डू मईड़ा की नवजात बच्ची को इस दुनिया में आने के 22वें मिनट में ही आधार कार्ड के जरिए पहचान मिल गई। गुड्डू और उसकी पत्नी ने जन्म लेते ही बच्ची का नाम ‘राखी’ रखा और इसी नाम पर उसका आधार कार्ड तैयार हो गया।

Also Read:  लालू प्रसाद यादव और उनके दोनों बेटों पर दर्ज हुआ भ्रष्टाचार का एक और मुकदमा

न्यूज 18 की खबर के अनुसार खवासा के आधार कार्ड केंद्र के संचालक हेमंत चोपड़ा ने बताया कि उन्हें सुबह सात बजकर 48 मिनट पर एएनएम कार्यकर्ता आशा कटारा से डिलीवरी की सूचना मिली। सूचना मिलने के चार से पांच मिनट के भीतर वह खवासा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे और आठ बजकर दो मिनट पर राखी का पंजीयन किय गया।

Also Read:  आॅनलाइन शुरू होगा कांग्रेस का मुखपत्र 'नेशनल हेराल्ड', नीलाभ मिश्रा होंगे एडिटर इन चीफ

तीन दिन पहले इसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ऐतरी पति कन्हैयालाल सिंगाड़ ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खवासा में दोपहर 1.20 बजे बालक को जन्म दिया। इसके ठीक एक घंटा 40 मिनट बाद बच्चे का आधार के लिए पंजीयन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here