राजस्‍थान: मालिकाना हक विवाद के निपटारे के लिए कोर्ट में गाय की पेशी के बाद जज ने सुनाया फैसला

0

राजस्‍थान के जोधपुर जिले की एक स्‍थानीय कोर्ट में शनिवार को एक गाय लोगों के बीच कौतूहल का विषय बन गई। दरअसल, इस गाय के मालिकाना हक लेकर दो लोगों के बीच पिछले एक साल से विवाद चल रहा था। दोनों पक्षों ने इसके हल के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। जिसके बाद शनिवार को सुनवाई के दौरान गाय को कोर्ट में पेश किया गया और अंतत: अदालत ने सभी सबूतों को ध्‍यान में रखते हुए इस गाय को ओम प्रकाश के हाथों सौंप दिया।

कोर्ट में जब गाय को पेश किया गया, तो वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए। वकील ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि ओम प्रकाश और श्याम सिंह के बीच गाय के मालिकाना हक को लेकर 2018 से ही विवाद चल रहा था। आज कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि पेश किए गए सभी साक्ष्यों के मुताबिक गाय को ओम प्रकाश के हवाले कर दिया जाए।

बताया जा रहा है कि पुलिस के काफी प्रयास के बाद भी यह विवाद सुलझ नहीं रहा था। कोर्ट के आदेश के बाद इस गाय को जज के सामने पेश किया गया। वकीलों ने बताया कि कोर्ट ने सभी सबूतों को ध्‍यान में रखते हुए गाय को ओम प्रकाश को सौंप दिया। राजस्थान में जानवर के अदालत में पेश होने का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले साल 2012 में राज्य के कोटा अदालत में भी भैंस की पेशी हो चुकी है।

इसके अलावा इससे पहले महाराष्ट्र के पुणे में भी इस तरह का मामला देखने को मिला था। जहां एक महिला ने मुर्गे की बांग से परेशान होकर थाने में शिकायत की थी। महिला मुर्गे की बांग से इतना परेशान हो गई की वह मुर्गे और उसके मालिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने के लिए थाने पहुंच गई थी।

अधिकारी ने बताया था कि हमें महिला की शिकायत मिली है। जब हमने जांच की तो पता चला कि वह उस घर में नहीं रहती है। यह घर उसकी बहन का है। वह अपनी बहन के घर कुछ दिनों के लिए आई थी और शिकायत देने के बाद वहां से चली गई। उन्होंने बताया था कि इस बाबत अबतक कोई आधिकारिक शिकायत दर्ज नहीं की गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here