‘अमीरों’ को रास नहीं आ रहा भारत, पिछले साल विदेशों में जाकर बस गए 7000 भारतीय करोड़पति

0

देश से बाहर जाने वाले करोड़पतियों की संख्या में 2017 में 16 फीसदी की तीव्र वृद्धि दर्ज की गई है। इस दौरान 7,000 सुपर रिच वाले भारतीयों ने अपना स्थाई निवास बदल लिया। यह संख्या साल 2016 में भारत की नागरिकता छोड़कर दूसरे देशों में बसने वाले धन कुबेरों के मुक़ाबले 16 फ़ीसदी ज़्यादा है। यह चीन के बाद विदेश चले जाने वाले करोड़पतियों की दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी संख्या है।भाषा के मुताबिक, न्यू वर्ल्ड वेल्थ की रिपोर्ट के अनुसार 2017 में 7000 करोड़पतियों ने अपना स्थायी निवास किसी और देश को बना लिया। वर्ष 2016 में यह संख्या 6,000 और 2015 में 4,000 थी। वैश्विक स्तर पर 2017 में 10,000 चीनी करोड़पतियों ने भी अपना मुल्क छोड़ दिया था।

अन्य देशों के अमीरों का अपने देश से दूसरे देश में बस जाने की संख्या में तुर्की के 6000, ब्रिटेन के 4000, फ्रांस के 4,000 और रूस के 3,000 करोड़पतियों ने अपना स्थायी निवास बदला दिया है। स्थायी निवास बदलने के रुख के मुताबिक भारत के करोड़पति निवासी ज्यादातर अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, कनाडा, आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जा रहे हैं, जबकि चीन के ज्यादातर करोड़पतियों का रुख अमेरिका, कनाडा और आस्ट्रेलिया की ओर है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here