मध्य प्रदेश: गुना में दलित किसान परिवार की पिटाई के मामले में आईजी, कलेक्टर, एसपी को हटाए जाने के बाद 6 पुलिसकर्मी निलंबित

0

मध्य प्रदेश के गुना जिले में अतिक्रमण हटाने गए दस्ते द्वारा दलित किसान परिवार की पिटाई किए जाने के मामले में राज्य सरकार ने ग्वालियर परिक्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को हटाने के बाद छह पुलिसकर्मियों को भी निलंबित कर दिया है।

मध्य प्रदेश

गौरतलब है कि, पिछले दिनों गुना जिले के केंट थाना क्षेत्र में एक कॉलेज की जमीन पर अतिक्रमण हटाने गए दल ने दलित किसान परिवार की पिटाई की थी, वहीं किसान दंपत्ति ने कीटनाशक पी लिया था। इस मामले को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गंभीरता से लिया और बुधवार देर रात जिलाधिकारी एस. विश्वनाथन व पुलिस अधीक्षक तरुण नायक को हटाने के आदेश दिए। वहीं, गुरुवार को ग्वालियर रेंज के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राजाबाबू सिंह को हटा दिया गया।

आधिकारिक तौर पर गुरुवार शाम दी गई जानकारी के अनुसार, गुना के जगनपुर चक में कॉलेज के लिए आवंटित शासकीय भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराने के दौरान पुलिस द्वारा बल प्रयोग में संदिग्ध पाए जाने पर छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। इससे पहले राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने इस घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने के लिए भोपाल से विशेष दल भेजने की बात कही थी।

किसान पिटाई मामले को राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी दुर्भाग्यपूर्ण बताया था और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की थी, साथ ही असंवेदनशील व दोषी अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई का अनुरोध किया था। वहीं कांग्रेस ने इस मामले में सरकार पर हमले बोले हैं। शिवराज सरकार की वापसी को जंगलराज की वापसी की संज्ञा तक दी गई है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मध्य प्रदेश के गुना में एक दलित दंपति की पुलिस द्वारा कथित तौर पर निर्दयता से पिटाई की घटना को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस की लड़ाई इसी सोच व अन्याय के खिलाफ है। राहुल गांधी ने घटना से जुड़ा वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘हमारी लड़ाई इसी सोच और अन्याय के ख़िलाफ़ है।’

प्रियंका गांधी ने वीडियो शेयर कर आरोप लगाया, ‘ गरीबों पर हमला, दलितों पर हमला, किसान पर हमला, लोकतंत्र पर हमला, यही तो है बीजेपी का चाल, चेहरा और चरित्र।’ उन्होंने कहा, ‘इस अन्याय के ख़िलाफ कांग्रेस जी-जान से लड़ेगी।’ कांग्रेस की किसान इकाई ‘किसान कांग्रेस’ ने इस घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया कि इस मामले में संज्ञान लेकर संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here