2015-16 में जब्‍त हुआ 562 करोड़ रुपये का जाली नोट और कालाधन, दोगुने मामले आए सामने

0

पिछले वित्त वर्ष के दौरान देश के बाजारों में संदिग्ध लेन-देन, जाली नोट, सीमा पार से धन के अंतरण के पकड़े गए मामले बढ़कर दोगुना हो गए। इस दौरान 560 करोड़ रुपये से अधिक के कालेधन का खुलासा हुआ। एक सरकारी रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

2015-16
प्रतिकात्मक फोटो

पीटीआई की ख़बर के मुताबिक, वित्त मंत्रालय के प्रतिष्ठित तकनीकी जांच निकाय फाइनेंसियल इंटेलीजेंस यूनिट (एफआईयू) की रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2015-16 के दौरान बड़ी संख्या में ऐसी घटनाएं सामने आईं। सभी बैंक और वित्तीय कंपनियां देश के धन-शोधन एवं आतंकवाद वित्तपोषण निरोधक उपायों के अनुपालन की बाध्यता के तहत ऐसे किसी भी प्रकार के लेन-देन की खबर इस यूनिट को देती हैं।

Also Read:  BJP नेता पर हत्या का आरोप, सबूत के लिए जंगलों में लाश ढूंढ़ रही है पुलिस

ख़बर के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘वित्त वर्ष 2015-16 में एफआईयू को ऐसी रिपोर्ट मिलने, उसके प्रोसेस और वितरण में खासी वृद्धि हुई।’ उसके अनुसार नकद लेन-देन रिपोर्ट की संख्या 2014-15 के 80 लाख से बढ़कर 2015-16 में 1.6 हो गया जबकि संदिग्ध लेन रिपोर्ट 58,646 से बढ़कर 1,05,973 हो गई।

Also Read:  पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान: उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में होंगे चुनाव, पहले चरण में 11 फरवरी को वोटिंग

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘जाली नोट के चलन संबंधी दर्ज रिपोर्टों में 16% और लाभ-निरपेक्ष संगठनों के लेनदेन की रपटों में 25% हो गई। इस दौरान सीमापार इलेक्ट्रानिक अंतरण के पकड़े गए संदिग्ध मामलों 850% वृद्धि हुई।’

Also Read:  भाजपा सांसद की दबंगई अस्पताल में डॉक्टर के साथ की मारपीट, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात

इस केंद्रीय एजेंसी ने धनशोधन रोकथाम अधिनयम की विभिन्न धाराओं के तहत नियमों का उल्लंघन करने वाले निकायों को रिकॉर्ड 21 पाबंदियां भी जारी की। इस एजेंसी पर भारतीय बैंकिंग एवं अन्य वित्तीय चैनलों में संदिग्ध लेन-देनों का विश्लेषण का जिम्मा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here