फ्री में नहीं मिलने वाला गरीबों को रसोई गैस, किश्तों में करेगी सरकार वसूली

0

जोरदार प्रचार करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गरीबों को फ्री एलपीजी कनेक्शन देने की बात कहीं, लेकिन इसमें फ्री जैसा कुछ नहीं बल्कि मोदी जी ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के नाम से नया कुछ दिया ही नहीं है। इस योजना में नये के नाम पर प्रधानमंत्री मोदी ने सिर्फ इतना जोड़ा है कि पहली बार गैस सिलेंडर भरने का 516.50 रुपए, चूल्हे के 990 रुपए तुरंत नहीं लिए जाएंगे। इन्हें किस्तों में वसूला जाएगा। वो भी गरीब की सब्सिडी के रूप में।

Ballia: Prime Minister Narendra Modi distributes the free LPG connections to the beneficiaries, under PM Ujjwala Yojana in Ballia on Sunday. Union Minister for Micro, Small and Medium Enterprises Kalraj Mishra is also seen. PTI Photo(PTI5_1_2016_000060B) *** Local Caption ***
Ballia: Prime Minister Narendra Modi distributes the free LPG connections to the beneficiaries, under PM Ujjwala Yojana in Ballia on Sunday. Union Minister for Micro, Small and Medium Enterprises Kalraj Mishra is also seen. PTI Photo(PTI5_1_2016_000060B) *** Local Caption ***

मजदूर दिवस पर मोदी सरकार और उनके अफसरों की ये कमाल की बाजीगरी है जो उन्होंने मजदूरों के साथ दिखाई है। करोड़ो रूपया इस योजना के विज्ञापनों पर फूंक दिया गया है, लेकिन आम आदमी को जो लाभ मिलना था वो इससे वंचित ही रह जाएगा।

राजस्थान पत्रिका की खबर के अनुसार यानी अगर आप इस योजना के तहत कनेक्शन लेते हैं तो आपके खाते में सब्सिडी तब तक नहीं आएगी, जब तक कि पहले सिलेंडर की गैस व चूल्हे की कीमत चुकता न हो जाए। हां इतना जरूर है कि खाली सिलेंडर व रेगुलटर समेत अन्य खर्च जो पहले पेट्रोलियम कंपनी उठाती थी, अब वह सरकार उठाएगी। मुफ्त गैस कनेक्शन देने का सिर्फ शोर ही रहा। न तो पीएम ने अपने भाषण में इसका जिक्र किया, ना ही योजना के रविवार को जारी विज्ञापन में। हां, पेट्रोलियम कंपनियों को जारी दिशा-निर्देश में जिक्र जरूर था।

बीपीएल महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन के नाम से बहुप्रचारित ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ को यूपी के बलिया जाकर नए अंदाज में पेश किया। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी द्वारा रविवार को लॉन्च इस योजना में नए के नाम पर सिर्फ इतना है कि पहली बार गैस सिलेंडर भरने का 516.50 रुपए, चूल्हे के 990 रुपए तुरंत नहीं लिए जाएंगे। इन्हें किस्तों में वसूला जाएगा। वो भी गरीब की सब्सिडी से।

01 करोड़ लोगों ने देश भर में गैस सब्सिडी छोड़ी। इनमें राजस्थान के 6.5 लाख परिवार शामिल हैं।
150 करोड़ रुपए प्रति माह सरकार के पास सब्सिडी बची (150 रु./कनेक्शन)
1800 करोड़ सरकार के पास बचेंगे सालाना (12 सिलेंडर के हिसाब से)
200 करोड़ जोड़कर 2 हजार करोड़ सालाना का फंड बनाया। इससे 3 साल में 5 करोड़ कनेक्शन देंगे।

खाली सिलेंडर व रेगुलेटर की सिक्योरिटी राशि (1250+150 रु.) नहीं देनी होगी। हौज पाइप के 100 रुपए, इंस्टालेशन व डिमोंस्ट्रेशन चार्ज 75 रुपए, ब्लू बुक के 25 रुपए भी नहीं देने होंगे। पहले की तरह ही चूल्हा गैस एजेंसी से खरीदने की बाध्यता नहीं होगी।

सिर्फ 990 रुपए का चूल्हा, व पहली रिफिल भराई 516.50 (जयपुर में) का पैसा ऋण के रूप में दिया जाएगा। वसूली उपभोक्ता की सब्सिडी से होगी। सिर्फ महिलाओं के नाम पर जारी होंगे कनेक्शन, पहले सबको मिलते थे। बीपीएल कनेक्शन के लिए सरकार ने 2 हजार करोड़ का फंड निर्धारित किया। जिससे 1600 रुपए प्रति कनेक्शन के हिसाब से 1.25 करोड़ कनेक्शन मिलेंगे। जबकि लक्ष्य 1.50 करोड़ का रखा है। पहले कंपनियों के सामाजिक दायित्य फंड से सालाना करीब 80 करोड़ बीपीएल कनेक्शन के लिए मिलते थे।

LEAVE A REPLY