उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर, अब तक 34 लोगों की मौत

0

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के एक गांव में जहरीली शराब पीने से दो जिलों के करीब 34 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं। ख़बरों के मुताबिक, बताया जा रहा है कि मृतकों की संख्या अभी और बढ़ सकती है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उत्तराखंड के हरिद्वार में 16 जबकि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की सीमा के पास 18 लोगों की मौत हुई है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तराखंड के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) अशोक कुमार ने बताया कि बृहस्पतिवार शाम झबरेड़ा क्षेत्र में स्थित बालूपुर गांव में एक मृतक की तेरहवीं में अवैध शराब परोसी गयी जिसके बाद लोगों की तबीयत खराब हो गयी।उत्तराखंड के बालूपुर गांव में 16 लोगों की मौत हो गयी।

वहीं, उतर प्रदेश के सहारनपुर के जिलाधिकारी आलोक पाण्डेय ने बताया कि जिले में जहरीली शराब प्ररकण में मरने वालों की संख्या बढकर 18 हो गई है। यह जिला उत्तराखंड से सटा है। ये लोग तेरहवीं में शराब पीने के बाद अपने घर वापस लौट आये थे।

एक अधिकारी ने बताया कि कुछ लोग अपने साथ शराब लेकर चले गये थे। इस मामले में 10 पुलिसकर्मियों के विरूद्ध कार्रवाई की गयी है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में भर्ती तीन लोगों की स्थिति अब खतरे से बाहर है। अभी 42 लोगों का उपचार चल रहा है। पाण्डेय ने बताया कि बालूपुर में ही ये लोग शराब पीकर आये थे रात वर्षा और ओलावृष्टि होने के कारण उन्हे उपचार नहीं मिल सका।

सहारनपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार ने बताया कि शराब पीने के बाद कल रात से लोगों की तबीयत खराब होने लगी थी और आज सुबह से मौतों का सिलसिला शुरू हो गया। कुमार ने बताया कि प्राप्त जानकारी के अनुसार, तेरहवीं के दौरान करीब 30-32 लोगों ने शराब पी।

घटना के बाद उत्तराखंड सरकार ने हरकत में आते हुए आबकारी विभाग के हरिद्वार जिले के 13 अधिकारियों और कर्मचरियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। अपर आबकारी आयुक्त अर्चना गहरबार ने बताया कि रूडकी के आबकारी निरीक्षक नरेंद्र सिंह सहित 13 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है।

झबरेड़ा के थानाध्यक्ष प्रदीप मिश्रा सहित चार पुलिस कर्मियों को भी प्रथमद्रष्टया लापरवाही बरतने के आरोप में तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया। हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपक रावत ने घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश देते हुए अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) को जांच अधिकारी नामित किया है। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here