सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी, 2015-17 के बीच सांप्रदायिक हिंसा में करीब 300 लोगों की गई जान

0

जहां एक तरफ विपक्षी पार्टियां सांप्रदायिक हिंसा को लेकर भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) और मोदी सरकार को घेर रही है, वहीं इस मामले में चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। आंकड़ों के मुताबिक, भारत भर में पिछले तीन सालों में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में तकरीबन 300 लोगों की जानें गई हैं।

सांप्रदायिक हिंसा
प्रतिकात्मक फोटो

एबीपी न्यूज़  में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार ने बताया कि भारत भर में पिछले तीन सालों में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में करीब 300 लोगों की जानें गई हैं जिनमें अकेले 2017 में 111 लोगों की मौत हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने एक प्रश्न के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि, साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा की 822 घटना में 111 लोगों की मौत हुई और 2384 घायल हो गए।

रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2017 में उत्तर प्रदेश में हुई 195 सांप्रदायिक घटनाओं में सबसे ज़्यादा 44 लोगों की जानें गई। इसके बाद राजस्थान का नंबर रहा जहां 91 ऐसी घटनाओं में 12 लोगों की मौतें हुईं। वहीं, साल 2016 में देश भर में हुई 703 सांप्रदायिक घटनाओं में 86 लोगों की मौतें हुईं और 2321 लोग घायल हो गए। मंत्री ने बताया कि साल 2015 में देश भर में हुई 751 सांप्रदायिक घटनाओं में 97 लोगों की मौत हुई तथा 2264 लोग घायल हो गए।

बता दें कि, इससे पहले एक रिपोर्ट में बताया गया था कि, देश के भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) शासित राज्यों में 2016 के मुकाबले साल 2017 में सांप्रदायिक हिंसा के मामलों में इजाफा देखा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here