फिर खुलेंगे 1984 सिख विरोधी दंगों के 28 मामले, एसआईटी करेगी जांच

0

पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले केंद्र ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े 28 मामलों को फिर से खोलने का फैसला किया है और इन सभी मामलों की जांच एसआईटी करेगी. इन मामलों के कई पहलुओं पर गौर करने के बाद यह फैसला किया गया ये मामले या तो बंद हो चुके हैं और या फिर सबूत के अभाव की वजह से इनमें आगे प्रगति नहीं हो सकी।

Also Read:  संसद के सेंट्रल हॉल में रामनाथ कोविंद ने भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली

भाषा की खबर के अनुसार, एक आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि 1984 के सिख विरोधी दंगों से संबंधित गंभीर आपराधिक मामलों की उचित ढंग से जांच के लिए गृह मंत्रालय की ओर से गठित एसआईटी ने 28 और मामलों को चिन्हित किया है, जिनकी आगे जांच की जरूरत है।

Also Read:  मुलायम ने फोड़ा लेटर बम, सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन को बताया असंवैधानिक, शामिल होने वालों पर कार्रवाई की चेतावनी

इसके साथ उन मामलों की संख्या 77 हो गई है, जिनकी जांच एसआईटी कर रही है. दिल्ली में सिख विरोधी दंगों के संदर्भ में कुल 650 मामले दर्ज किए गए थे, जिनमें से 49 मामलों की नए सिरे से जांच के संदर्भ पहचान एसआईटी ने बीते 29 जुलाई की थी।

Also Read:  पिछले साल आए 7.8 तीव्रता से भी ज्यादा शक्तिशाली भूकंप काठमांडू को दहला सकता है

एसआईटी तीन सदस्यीय है, जिनमें दो महानिरीक्षक स्तर के आईपीएस अधिकारी और एक न्यायिक अधिकारी शामिल हैं. पंजाब में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने वाला है और 1984 का सिख विरोधी दंगा चुनाव में एक प्रमुख राजनीतिक मुद्दा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here