2002 गुजरात दंगे : हाई कोर्ट ने एक मामले में 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई

0
>

गुजरात हाई कोर्ट ने 2002 में गोधरा की घटना के बाद हुए दंगों के दौरान मेहसाणा जिले में दो लोगों की हत्या के मामले में 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। न्यायमूर्ति अनंत दवे और न्यायमूर्ति बीएन कारिया की खंडपीठ ने अभियुक्तों को ‘छूट के साथ उम्रकैद की सजा सुनाई’ और राज्य सरकार को इजाजत दे दी कि 14 साल की सजा पूरी करने के बाद इन लोगों को रिहा कर दिया जाए।

Also Read:  गाजी दरगाह की जगह बनेगा मंदिर, VHP की योजना को CM योगी ने किया समर्थन

पीटीआई भाषा की खबर के अनुसार, निचली अदालत ने इन लोगों को बरी कर दिया था, लेकिन हाई कोर्ट ने इन्हें दोषी पाया। हाई कोर्ट ने हर एक अभियुक्त पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया और समर्पण करने के लिए 10 सप्ताह का समय दिया। पिछले सप्ताह हाई कोर्ट ने इस मामले में 27 आरोपियों में से 11 को दोषी करार दिया था।
_77858088_a99c282a-b364-4e8d-9415-62db3294af8c

Also Read:  दाल रोटी मत खाओ, मोदी के गुण गाओ : राहुल गांधी

यह मामला अल्पसंख्यक समुदाय के व्यक्ति कल्लू मियां सैयद और उनकी बेटी हसीना बीबी की हत्या से जुड़ा है। तीन मार्च, 2002 को इनकी हत्या की गई थी।

अभियुक्तों को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या), 148 और 149 (गैर कानूनी ढंग से जमा होना) तथा 436 (आगजनी) के तहत दोषी करार दिया गया। उल्‍लेखनीय है कि मेहसाणा की त्वरित अदालत ने इस मामले के सभी 27 आरोपियों को 14 जून, 2005 को बरी कर दिया था।

Also Read:  अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी को मलयालियों का गुस्सा पड़ा महंगा, जानिए कैसे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here