दो भारतीय भाईयों ने 900 मिलियन में चीन को बेची एडवरटाईजिंग टेक्नोलॉजी

0

मुंबई में पले बढ़े दो भाई एक दिन में ही अरबों रूपए के मालिक बन गए हैं। दोनों भाइयों ने सोमवार को अपनी एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी स्टॉर्टअप को चीन के निवेशकों को 900 मिलियन डॉलर में बेच दिया।

34 साल के दिव्यांक तुराखिया और उनके बड़े भाई भवीन जो कि मुंबई के जूहु और अंधेरी इलाकों में पलकर बड़े हुए हैं।दोनों ने अपने स्टॉर्टअप मीडिया डॉट नेट का चीन की मिटेनो कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी के साथ विलय कर दिया है। बाजार के जानकारों के मुताबिक यह एडवरटाइजिंग टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री में यह अभी तक का सबसे बड़ा विलय-अधिग्रहण है। इससे पहले गूगल ने 750 मिलियन डॉलर एडमोब और ट्विटर के मोपब का 350 मिलियन डॉलर में अधिग्रहण किया था।

divyanak-1-23-1471943445तुराखिया भाइयों ने इससे पहले भी अपनी कंपनियों की डील कर चुके थे। इससे पहले उन्होंने नैसडॉक में सूचीबद्ध कंपनी एंड्यूरेंस इंटरनेशनल ग्रुप को बिगरॉक, लॉजिकबॉक्स और रीसेलर ग्रुप बेचा डोमेन बेचे थे। मीडिया डॉट नेट को छह साल पहले संयुक्त रूप से दुबई और न्यूयॉर्क में स्थापित किया गया था। उस समय इसको याहू और माइक्रोसॉफ्ट ने मदद उपलब्ध कराई थी।

divyanak-3-23-1471943506

दिव्यांक ने अपनी आगे की पढ़ाई नर्सी मोंजी से की थी। दोनों भाइयों ने बताया कि उन्होंने बीकॉम के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाया था। पर वो कॉलेज नहीं जाते थे। दोनों भाइयों को जानने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि दोनों के पास इंजीनियरिंग की डिग्री नहीं है। पर दोनों बेहतरीन कोडर हैं। मीडिया डॉट नेट का 90 फीसदी राजस्व अमेरिकी बाजार से आता है। बाकी इसका बाजार कनाडा और यूके में है। दिव्यांक ने कहा कि चीन आॅनलाइन एडवरटाइजमेंट दुनिया का दूसरा सबसे तेजी से उभरने वाला बाजार है। यह डील हमें एक ऐसा मौका दे रही है कि हम अपनी एक नई कहानी लिख सके।

 

LEAVE A REPLY