मुरादाबाद में मेडिकल टीम और पुलिस पर हमला मामले में 17 लोग गिरफ्तार, तबलीगी जमात से जुड़े मुद्दे पर SP ने जनता का रिपोर्टर से कहा- जांच के बाद देंगे जवाब

0

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के नवाबपुरा पुलिस थाने क्षेत्र में बुधवार (15 अप्रैल) को कोरोना वायरस की जांच के लिए पहुंची स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिसकर्मियों की टीम पर हमला करने के मामले में अब तक 17 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। वहीं, इस मामले में तबलीगी जमात से जुड़े मुद्दे पर ‘जनता का रिपोर्टर’ से बात करते हुए मुदाराबाद एसपी ने कहा कि, जांच के बाद इसपर जवाब दिया जाएंगा।

मुरादाबाद
फोटो: सोशल मीडिया

बता दें कि, कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज को अस्पताल ले जाने के लिए पहुंचे डॉक्टरों और मेडिकल स्टॉफ की टीम पर स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया। जानकारी के मुताबिक, इस हमले कई लोग घायल हो गए। भीड़ ने डॉक्टरों, पैरा मेडिकल टीम और एंबुलेंस की सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस टीम पर भी हमला किया। इस हमले की घटना में शामिल 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

‘जनता का रिपोर्टर’ से बात करते हुए एडिशनल एसपी सिटी अमित कुमार आनंद ने कहा कि, ‘इस मामले में 17 लोगों को गिरफ्तार किया है।’ वहीं, इस घटना में तबलीगी जमात से जुड़े लोगों के शामिल होने के मुद्दे पर जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, ‘अभी इसपर कुछ कह नहीं सकते है, इस घटना में तबलीगी जमात के लोग शामिल हैं या नहीं। अभी मामले की जांच की जा रही है, उसके बाद ही आगे कुछ कह पाएंगे।’

जानकारी के मुताबिक, पथराव में एंबुलेंस की दो गाड़ियां और पुलिस की कम से कम तीन गाड़ियों के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को अमानवीय कृत्य करार देते हुए हमलावरों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्रवाई करने की बात कही है।

बता दें कि, यह घटना सामने आने के बाद कई सोशल मीडिया यूजर्स समेत कई पत्रकारों ने अपने ट्वीट में लिखा था कि इस मामले में जमात के लोग भी शामिल है। वरिष्ठ पत्रकार दीपक चौरसिया ने अपने ट्वीट में लिखा था, “जमात के लोगों ने आज फिर अपने जाहिल होने का सबूत दे दिया। मुरादाबाद में एक जमाती की मौत हो गई। जब पुलिस और डॉक्टर की टीम परिवार को कराने गयी तो लोगों ने टीम पर हमला कर दिया। एम्बुलेंस को तोड़ा गया और देवदूत डॉक्टर को लहूलूहान कर दिया।”

गौरतलब है कि, निजामुद्दीन मरकज़ की घटना के बाद तबलीगी जमात के जुड़े सदस्यों को लेकर मीडिया में कई तरह की भ्रामक ख़बरें सामने आ रही है। पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर तबलीगी जमात को निशाना बनाए जाने के लिए लगातार फर्जी खबरों का सहारा लिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here