’16 दिसंबर’ गैंगरेप का नाबालिग दोषी रविवार को होगा रिहा

1

देश को झकझोर कर रख देने वाले ’16 दिसंबर’ गैंगरेप के मामले में अदालत का फैसला आ गया है। फैसले के मुताबिक नाबालिग दोषी को रविवार को रिहा किया जाएगा। दिल्ली हाईकोर्ट ने उसकी रिहाई पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है।

सुधारगृह में 3 साल रहने की सजा पूरी हो जाने के बाद कोर्ट ने औऱ अधिक दिनों तक सुधारगृह में रखने से इनकार कर दिया है। केंद्र सरकार ने इस मामले में नाबालिग दोषी की रिहाई का विरोध किया था और कहा था कि पहले वह खुद सुधरने का भरोसा दिलाए।

Also Read:  अमृतसर (मध्य) सीट से आम आदमी पार्टी ने बदला अपना उम्मीदवार

दरअसल नाबालिग दोषी अब 20 साल का हो चुका है और जिस समय उसने अपराध किया वह 18 साल से कम उम्र का था। यही कारण है कि केंद्र ने नाबालिग दोषी को बाल सुधार गृह में रखे जाने की अवधि बढ़ाए जाने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट से अपील की थी।

Also Read:  राष्ट्रपति बना तो पहला दिन ओबामा की नीतियों को रद्द करने में जाएगा : डोनाल्ड ट्रंप

केंद्र ने कहा था कि नाबालिग दोषी की रिहाई के बाद उसके पुनर्वास की योजना में कई आवश्यक बातें नदारद हैं, जिन पर उसकी रिहाई से पूर्व विचार किए जाने की आवश्यकता है।

Also Read:  VIDEO: BJP युवा मोर्चा के नेता ने दी पुलिस को चेतवानी कहा- मुंह में डंडे ठूसकर जय श्रीराम के नारे लगवाएंगे

वहीं पीड़िता की मां ने बीते 16 दिसंबर को अपनी बेटी को साहसिक श्रद्धांजलि देते हुए उसका नाम सार्वजनिक रूप से लिया और कहा था कि बलात्कार जैसे घिनौने अपराध करने वाले लोगों को अपने सिर शर्म से झुकाने चाहिए, न कि पीड़ितों या उनके परिवारों को।

1 COMMENT

  1. Keshu Odedra
    Public44m

    ? बलात्कार की सजा ?
    ?अमेरिका :
    पीड़िता की उम्र और क्रूरता को देखकर उम्रकैद या 30 साल की सजा दी जाती है।
    ? रूस :-
    20 साल की कठोर सजा.
    ?चीन –
    No Trial, मेडिकल जांच मे प्रमाणित होने के बाद मृत्यु दंड.
    ? पोलेंड –
    सुवरो से कटवा कर मौत Death thrown to Pigs
    ? इराक –
    पत्थरो से मार कर हत्या .Death by stone till last breath
    ? ईरान –
    24 घंटे के अंदर पत्थरो से मार दिया जाता है या फांसी
    ?दक्षिण अफ्रीका :
    20 साल की जेल
    ? सऊदी अरब :
    फांसी या यौनांगों को काटने की सजा
    ? मंगोलिया –
    परिवार द्वारा बदले स्वरुप मृत्यु Death as revenge by family
    ?नीदरलैंड- :
    ेंयौन अपराधों के लिए अलग-अलग सजा बताई गई है।
    ? कतर –
    हाथ,पैर,यौनांग काट कर पत्थर मार कर हत्या
    ?अफ़गिनिस्तान –
    4 दिनो भीतर सर मे गोली मार दिया जाता है.
    ? मलेसिया –
    मृत्यु दंड Death Penalty
    ? कुवैत –
    सात दिनो के अंदर मौत की सजा.
    ?INDIA –
    प्रदर्शन
    धर्ना
    जांच आयोग
    समझौता
    रिस्वत
    लडकी की आलोचना
    मिडिया ट्रायल
    राजनीतिकरन
    जातिकरन
    जमानत
    सालो बाद चार्जशिट
    सालो तक मुकदमा
    अपमान एवं जलालत
    और
    अंत मे दोषी का बच निकलना.

    यदि आप सहमत है तो Share करे और आपके क्या लगता है क्या सजा होनी चाहिये इन दरिन्दो की… ?
    एक रेड लाईट एरिया मे क्या खूब बात लिखी
    पाई गई..
    “यहाँ सिर्फ जिस्म बिकता है,
    ईमान खरीदना हो तो अगले चौक पर ‘पुलिस
    स्टेशन’ हैं |”
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आपकी तानाशाही चले और कोई आपका
    विरोध न करे..
    तो आप भारत में न्यायाधीश बन जाइये,
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आप लोगों को बेवजह पीटें लेकिन कोई आपको
    कुछ न बोले..
    तो आप पुलिस वाला बन जाइये,
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आप एक से बढ़कर एक झूठ बोलें अदालत में,
    लेकिन कोई आपको सजा न दे,
    तो आप वकील बन जाइये,
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आप खूब लूट मार करें,
    लेकिन कोई आपको डाकू न बोले,
    तो आप भारत में राजनेता बन जाइये,
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आप दुनिया के हर सुख मांस, मदिरा, स्त्री
    इत्यादि का आनंद लें,
    लेकिन कोई आपको भोगी न कहे,
    तो किसी भी धर्म के धर्मगुरु बन जाओ.
    ..
    आप चाहते हैं,
    कि आप किसी को भी बदनाम कर दें,
    लेकिन आप पर कोई मुकदमा न हो,
    तो मीडिया में रिपोर्टर बन जाइये,
    ….
    यकीन मानिये..
    कोई आप का बाल भी बाँका नहीं कर पाएगा.
    भारत में,
    हर ‘गंदे’ काम के लिए एक वैधानिक पद उपलब्ध
    है,
    इसीलिए मेरा भारत महान है।

    बात सच एवं दमदार है
    कृपया बेईमानी ना करेँ
    ईमानदारी से फॉरवर्ड कर देँ..????..jai Hind..

    Jay shree krishna to all my friends
    2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here