इलाहाबाद HC की 150वीं सालगिरह पर बोले PM मोदी- हमारी सरकार अब तक 1200 कानून खत्म कर चुकी हैं

0

इलाहाबाद हाईकोर्ट की स्थापना के 150 साल पूरे होने पर आज एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिसमें पीएम मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दोनों शिरकत करने पहंचे। शपथग्रहण के बाद सीएम योगी पहली बार पीएम मोदी के साथ किसी सार्वजनिक मंच पर थे।

मोदी
photo- aaj tak

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा, भारत के न्याय स्थल का तीर्थ क्षेत्र इलाहाबाद हाईकोर्ट है। कार्यक्रम में शामिल होना मेरे लिए गर्व की बात है।’ तकनीक के सहारे न्यायपालिका का काम तेज करने की बात कही। पीएम मोदी ने कहा ‘तकनीक के सहारे न्यायपालिका का काम तेज हो, मोबाइल से मुकदमों की तारीख के एसएमएस मिलें।’

इस कार्यक्रम के दौरान मंच पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे। साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि कानून का अंतिम लक्ष्य सभी लोगों का कल्याण है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि कानून ऐसी चीज है जो लगातार बदलती रहनी चाहिए। पीएम ने कहा कि कानून के जंजाल को खत्म करने में केंद्र सरकार ने कई कदम उठाए हैं।

मोदी ने कहा कि मैं नए कानून कितने बनाऊंगा ये मुझे मालूम नहीं है लेकिन पीएम बन गया तो हर दिन एक कानून खत्म जरूर करूंगा। इस बोझ को कैसे कम किया जाएगा, चीफ जस्टिस भी इसी लेकर चिंतित हैं।

हमको खुशी है कि 5 साल पूरे नहीं हुए हैं और अभी तक सरकार ने 1200 कानून खत्म कर चुके हैं। अब वक्त आ गया है कि 2022 तक देश को बेहतर बनाने का संकल्प लें और उस दिशा में कदम उठाएं।

पीएम मोदी के संबोधन से पहले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा ‘कानून का स्थान शासन-शासकों से ऊपर है, कानून व्यवस्था स्वतंत्र व निष्पक्ष न्यायपालिका पर निर्भर करती है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट का इतिहास गौरवशाली रहा है, वैसे भी कानून से बढ़कर कोई नहीं है। कानून से ही शिकायतों का हल निकलता है। न्याय और विधि एक दूसरे के पूरक हैं और इंसाफ देना सबसे बड़ा धर्म है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब-जब लोकतंत्र पर संकट आया, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पूरी निष्ठा के साथ उसे बचाया। न्यायालय ने कुछ ऐसे फैसले दिए, जिसने भारतीय समाज को नई दिशा दी। वैसे समाज कानून से चलाता है और इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कई ऐतिहासिक फैसले दिए हैं।

बता दें कि, कार्यक्रम के दौरान एक ही मंच पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जेएस खेहर , कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, यूपी के राज्यपाल राम नाईक और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद रहे।

प्रधानमंत्री का विमान सुबह 10 बजे शहर से बाहर स्थित बमरौली हवाईअड्डे पर उतरा, जहां योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया. हवाई अड्डे पर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक भी थे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, इलाहाबाद हाईकोर्ट एशिया का सबसे बड़ा और सबसे पुराना हाईकोर्ट है इसकी स्थापना 17 मार्च 1866 में हुई थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here