नोएडा के स्कूल में 14 साल की छात्रा फांसी के फंदे से लटकती मिली, परिवार ने बलात्कार और हत्या का लगाया आरोप

0

देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा के एक बोर्डिंग स्कूल में 14 वर्षीय एक लड़की फांसी पर लटकी पाई गई। लड़की के परिवार का आरोप है कि रेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई और इंस्टीट्यूट मैनेजमेंट ने बिना उन्हें सूचना दिये हुए उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया।

नोएडा

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने इस मामले में सोमवार को जानकारी देते हुए कहा कि यह घटना कथित रूप से सेक्टर 115 में स्कूल में 3 जुलाई को हुई और रविवार को सोशल मीडिया पर हंगामा मचने के बाद यह मामला प्रकाश में आया। उन्होंने बतााय कि अब तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है, क्योंकि स्थानीय सेक्टर 49 पुलिस स्टेशन में अभी तक कोई औपचारिक शिकायत नहीं की गई है। यहां तक कि वरिष्ठ अधिकारियों ने इस घटना की जांच का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि अगर परिवार ने अपने दावे का समर्थन करने वाले किसी भी सबूत के साथ संपर्क किया तो जांच की जाएगी।

हालांकि, हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले में स्थित परिवार ने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिखकर नोएडा स्कूल के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है। 10वीं कक्षा की छात्रा की मां ने लोगों से अनुरोध किया है कि वे परिवार की कमजोर वित्तीय स्थिति का हवाला देते हुए ‘न्याय’ पाने के लिए उनका समर्थन करें।

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त रणविजय सिंह ने कहा, ‘पुलिस को सोशल मीडिया से मामले के बारे में पता चला है। परिवार ने आरोप लगाया है कि लड़की की हत्या की गई थी और बलात्कार किया गया था। पुलिस ने स्कूल प्रबंधन से संपर्क किया और घटनास्थल से जानकारी जुटाई।’ उन्होंने दावा किया कि, ‘यह पता चला है कि लड़की ने 3 जुलाई को खुद को मार लिया और एक सुसाइड नोट छोड़ा है। उसने इसमें स्पष्ट रूप से लिखा है कि उसकी आत्महत्या के लिए स्कूल सहित कोई भी जिम्मेदार नहीं है। उन्होंने अपने परिवार और कुछ समस्याओं के बारे में भी लिखा है।’

उन्होंने कहा कि पुलिस लड़की के परिवार तक पहुंच गई है और उनके साथ जानकारी साझा की है। अगर उनके पास अभी भी कोई शिकायत है, तो वे पुलिस से संपर्क कर सकते हैं। मामले की जांच की जाएगी और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। परिवार ने दावा किया है कि उनके तीन बच्चे स्कूल में पढ़ते हैं। नोएडा के सेक्टर 115 में एक ही परिसर में दो लड़कियां, जबकि इसी स्कूल की एक अन्य शाखा में लड़का पढ़ता है।

उन्होंने बताया कि बच्चे कोरोना संकट के कारण घर लौट आए थे और 18 जून को अपने स्कूलों में वापस गए थे। 3 जुलाई को लड़की के माता-पिता को स्कूल से अचानक फोन आया। उन्होंने उन्हें तुरंत वहां पहुंचने के लिए कहा, क्योंकि उनके सबसे बड़े बच्चे के साथ ‘कुछ’ हुआ था।

लड़की की मां ने कहा कि जब वह और उनका पति स्कूल पहुंचे तो उनके फोन को संस्थान के अधिकारियों ने जबरन ले लिया और उन्हें उनकी बेटी का शव दिखाया गया। मां ने स्कूल पर आरोप लगाया कि उन्हें जबरन शव के दाह संस्कार के बारे में कुछ कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया। उन्होंने आरोप लगाया कि, ‘उन्होंने हमारे विरोध के बावजूद जबरन शव का अंतिम संस्कार कर दिया।’ उसने दावा किया कि उसकी बेटी का शरीर नीला हो गया था और कपड़े फटे हुए थे और शरीर छत के पंखे से लटका हुआ था।

लड़की की मां ने एक वीडियो में दावा किया, ‘मेरी बेटी को स्कूल में मार दिया गया है और मुझे शक है कि उसके साथ वहां कुछ भयानक हुआ है। वहां के लोगों ने उसके साथ बलात्कार किया है। उसे मार दिया गया था और उसके शरीर को पंखे से लटका दिया गया था।’

उन्होंने आगे कहा कि, ‘मैं आप सभी (जनता) से आग्रह करती हूं, कृपया हमारी मदद करें! हमारे पास वकीलों के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है। कृपया हमें न्याय दिलाने में मदद करें। यह किसी भी अन्य बच्चे के साथ हो सकता है। महिला ने दावा किया कि, “हमें उनके द्वारा धमकी दी गई है। मेरे परिवार, दो बच्चों और हम पति-पत्नी को नुकसान पहुंच सकता है, हमें सुरक्षा की जरूरत है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here