कानपुर में जहरीली शराब का कहर, अब तक 13 लोगों की मौत, कई गंभीर रूप से बीमार

0

उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर और कानपुर देहात में ‘जहरीली शराब’ का असर तेजी से बढ़ रहा है। जहरीली शराब की वजह से शनिवार और रविवार के दिन कानपुर नगर और कानपुर देहात के कई लोगों के लिए जानलेवा साबित हुए और कई घरों में अभी भी मातम पसरा हुआ है। कानपुर मंडल के दो जनपदों में 24 घंटे के अंदर जहरीली शराब पीने से 13 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि अभी भी दर्जन भर लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

Photo: PTI

पुलिस ने दोनों ही जनपदों में घटित घटनाओं में आबकारी की धारा 70 के तहत मुकदमा दर्ज करते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है। अब तक जहरीली शराब पीने से हुई मौत के मामले में एक अफसर को निलम्बित किया है। पुलिस ने फिलहाल इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें मुख्य अभियुक्त विनय सिंह भी शामिल हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। उन्होंने शोक संतप्त परिवारीजन के प्रति अपनी संवेदना भी जताई। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, प्रमुख सचिव आबकारी कल्पना अवस्थी व कई अधिकारियों ने लाला लाजपत राय अस्पताल (हैलट) पहुंचकर पीडि़तों का हाल लिया। शर्मा ने कहा कि दोषियों को बख़्शा नहीं जाएगा।

दैनिक जागरण के मुताबिक, जहरीली शराब से कानपुर नगर में पांच लोगों की मौत को अभी 24 घंटे ही बीते थे कि कानपुर देहात में भी छह लोगों की मौत हो गई। रविवार को कानपुर नगर में उपचार के दौरान दो और लोगों ने दम तोड़ दिया। दोनों जिलों में अब तक कुल 13 लोगों की मौत हो चुकी है। 25 से ज्यादा लोगों का इलाज चल रहा है। सभी लोगों ने सरकारी ठेके से शराब खरीदी थी। कानपुर देहात में प्रशासन पांच लोगों के मरने की ही पुष्टि कर रहा है।

वहीं ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार ने कानपुर नगर में सात लोगों की मौत की पुष्टि की है, हालांकि उन्होंने कानपुर देहात में मरने वालों की संख्या नहीं बताया। बीबीसी के मुताबिक कानपुर नगर के पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार का कहना था कि मामले की कई स्तर पर जांच की जा रही है और दोषियों के खिलाफ गैंगस्टर ऐक्ट जैसी धाराओं में भी कार्रवाई हो सकती है।

बताया जा रहा है कि मुख्य अभियुक्त की लोकल ब्रैंड की शराब का नेटवर्क कानपुर और पड़ोसी जिलो में फैला हुआ है। एसएसपी कुमार का कहना था कि इसमें आबकारी विभाग के कर्मचारियों और पुलिस की मिलीभगत के एंगल से भी जांच की जा रही है। स्थानीय लोगों की मानें तो रुरा थाना क्षेत्र के मंडौली गांव में देसी शराब की दुकान से पिछले दो-तीन दिनों से ‘गड़बड़’ शराब बेचने की शिकायतें मिल रही थीं।

शुक्रवार रात शराब पीने के बाद कई लोगों को पेट में जलन और दर्द के बाद मुंह से खून आने लगा। कुछ लोगों ने तो अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया जबकि कुछ की मौत अस्पताल में हो गई। कानपुर देहात के मड़ौली, बलेथा व भंवरपुर गांव में ठेके पर जहरीली शराब पीने के बाद करीब डेढ़ दर्जन लोग उल्टी, उलझन और कम दिखाई देने से शनिवार रात भर परेशान रहे।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here