दिल्ली: दरिंदगी की शिकार हुई 12 साल की बच्ची की हालत नाजुक, एक आरोपी गिरफ्तार

0

देश की राजधानी दिल्ली में यौन उत्पीड़न और शारीरिक प्रताड़ना के बाद पड़ोसियों को खून से लथपथ मिली 12 साल की बच्ची आंतों और सिर में लगी गंभीर चोटों के कारण अपने जीवन के लिए संघर्ष कर रही है। बच्ची के साथ हुई क्रूरता को लेकर प्रदर्शन, नेताओं, कार्यकर्ताओं और अन्य लोगों की सख्त नाराजगी के बाद अंतत: दिल्ली पुलिस ने गुरुवार रात एक व्यक्ति को हत्या के प्रयास और यौन उत्पीड़न के मामले में गिरफ्तार किया।

दिल्ली

पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हुई है और उसका पुराना आपराधिक रिकॉर्ड भी है। पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान 33 वर्षीय कृष्ण के रूप में हुई है। संयुक्त पुलिस आयुक्त शालिनी सिंह ने कहा, ‘‘मंगलवार को 12 साल की बच्ची का उत्पीड़न हुआ। पॉक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है। 20 से ज्यादा टीमें बनाई गईं। टीमों ने 100 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले गए। समान पृष्ठभूमि वाले संदिग्धों से पूछताछ की गई। अंतत: आरोपी गुरुवार को गिरफ्तार हुआ।’’ सिंह ने बताया कि कृष्ण पर हत्या, हत्या के प्रयास, आदि सहित चार मामले दर्ज हैं।

पीड़ित बच्ची एम्स में भर्ती है। वहां के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा कि बच्ची को पीटा गया और धारदार हाथियार से उसपर वार किए गए। उसकी हालत नाजुक है और वह ऑक्सीजन के सहारे है। उन्होंने कहा, ‘‘उसे सिर में बहुत चोट आई है और उसकी हालत नाजुक है। उसकी मलाशय और आंतें बुरी तरह जख्मी थीं, शायद कोई चीज उनके अंदर डाली गई थी। इसी कारण उसे तुरंत इताल की जरुरत थी और हमने उसके यहां आते ही सर्जरी की।’’

पुलिस ने बताया कि पश्चिम विहार निवासी इस बच्ची के माता-पिता एक फैक्टरी में मजदूरी करते हैं। वह अपने माता-पिता और बहन के साथ रहती थी। घटना के वक्त वह घर में अकेली थी और मंगलवार को अपने पड़ोसियों को खून में लथपथ मिली थी। बच्ची को पहले संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन बाद में उसे एम्स स्थानांतरित कर दिया गया। बच्ची की गंभीर हालत और निर्भया कांड की भयावहता को याद करते हुए डॉक्टरों ने बच्ची के अस्पताल पहुंचते ही तुरंत उसकी सर्जरी की।

वरिष्ठ डॉक्टर ने बताया, ‘‘सर्जरी के दौरान उसके मलाशय और आंतों को सिला गया, उसके शरीर के अन्य जगहों पर टांके लगाए गए। उसे न्यूरोसर्जिकल मदद की भी जरुरत पड़ सकती है। फिलहाल उसे कुछ समझ नहीं आ रहा है, हम उसकी हालत पर चौबीसों घंटे नजर रखे हुए हैं।’’

अस्पताल से निकलने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बच्ची के साथ जो क्रूरता हुई है, उसने ‘‘आत्मा को झंकझोर’ दिया है, सरकार सबसे अच्छे वकील नियुक्त करके सुनिश्चित करेगी कि दोषी को कड़ी सजा मिले। उन्होंने कहा कि बच्ची पर इस ‘‘बर्बर हमले’’ के कारण उसे जो चोटें आई हैं उन्हें बताना संभव नहीं है। उन्होंने बच्ची के परिवार को 10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने सीसीटीवी फुटेज खंगाले हैं। दिल्ली पुलिस प्रवक्ता ईश सिंघल ने कहा, ‘‘दिल्ली पुलिस ने पश्चिम विहार थाने में पॉक्सो कानून के तहत दर्ज मामले को गंभीरता से लिया है।’’ पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बच्ची के शरीर पर चोटें किसी धारदार हथियार से लगी हैं। उन्होंने कहा कि बच्ची का सिर्फ यौन उत्पीड़न नहीं हुआ है, उसके सिर और चेहरे पर धारदार हथियार से वार किया गया है।

दिल्ली महिला आयोग के एक सूत्र के अनुसार, पहले सिर्फ बच्ची का पिता काम करता था। लेकिन आर्थिक स्थिति के कारण मां ने भी उसी फैक्टरी में काम करना शुरू कर दिया। शायद इसी कारण वह घर में अकेली थी। अस्पताल जाकर वहां डॉक्टरों से बात करने के बाद दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि बच्ची की हालत ‘‘बहुत गंभीर है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बच्ची के सिर में कई जगह फ्रैक्चर (हड्डी टूटना) है। पूरे शरीर पर दांत से काटने के निशान हैं। उसे इतनी बुरी तरह पीटा गया है कि उसके शरीर के हर अंग पर चोट के निशान हैं।’’ उन्होंने कहा कि बच्ची के साथ बलात्कार की इस घटना ने राजधानी दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर से सवाल खड़ा कर दिया है।

आरोपी की गिरफ्तारी के बाद मालीवाल ने ट्वीट किया है, ‘‘आखिरकार अब जाकर पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। इस बेटी के साथ इंसाफ में ज़रा भी देर नहीं होनी चाहिए। भगवान जल्द इस बिटिया को अच्छा स्वास्थ्य दे। देश में बलात्कार को आम बात बनने नहीं दिया जा सकता।’’

पूर्वी दिल्ली के सांसद और भाजपा नेता गौतम गंभीर ने भी दोषी के लिए मौत की सजा की मांग की है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार भी बच्ची को देखने एम्स गए थे। उन्होंने कहा कि पार्टी के नेता उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलकर बच्ची के लिए न्याय की मांग करेंगे। महिला अधिकार कार्यकर्ता योगिता भयाना ने ट्वीट किया है, ‘‘बिहार की रहने वाली 13 साल की बच्ची के साथ राष्ट्रीय राजधानी के पीरागढ़ी इलाके में बलात्कार की शर्मनाक घटना हुई है। इस घटना से मानवता फिर शर्मसार हुई है, यह दिखाता है कि समाज में महिलाओं के प्रति कितनी घृणा है। ऐसा करने वालों को फांसी दे देनी चाहिए। पश्चिम विहार थाना पुलिस में भादंसं की धारा 307 (हत्या के प्रयास) और पॉक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here