साथ थे तो प्रशंसा करते थे अब निंदा करते नहीं थकते : नीतीश

0

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर विधानसभा चुनाव में नाकारात्मक प्रचार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कल जब साथ थे तब प्रशंसा करते नहीं थकते थे और आज अलग होने के बाद निंदा करते नहीं थकते। पूर्वी चंपारण जिले के चकिया में बुधवार को एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने एक बार फिर महंगाई के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि अब उल्टे केंद्र के मंत्री दाल की बढ़ी कीमत के लिए राज्य सरकार को दोषी बता रहे हैं।

नीतीश ने कहा, “केंद्र सरकार को पहले ही अनुमान लगाना चाहिए था कि इस साल दाल की उपज कम होने वाली है और इसी अनुरूप कदम उठाना चाहिए था।”

नीतीश ने कहा कि भाजपा के लोग जमाखोरी का काम करते हैं। बिहार के व्यापारी अपेक्षाकृत ज्यादा ईमानदारी से काम करते हैं। भाजपा व्यापारियों से वोट भी ले लेती है और उन्हें गाली भी देती है।

उन्होंने भाजपा पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में किए गए वादे अब तक पूरे नहीं हुए और भाजपा के नेता एक बार फिर वादा करने में जुट गए हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान कहा गया था कि विदेशों में जमा काला धन लाएंगे और सभी लोगों के बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा होंगे।

सवालिया लहजे में उन्होंने कहा कि काला धन लाने के वादे का क्या हुआ? कितने लोगों के खाते में 15 लाख रुपये जमा हुए? नरेंद्र मोदी कहते थे कि हमारी सरकार बनी तो युवाओं को रोजगार देंगे, कितने लोगों को नौकरी मिली?

बिहार विधानसभा की कुल 243 सीटों के लिए 12 अक्टूबर से पांच नवंबर के बीच पांच चरणों में मतदान होना है। पहले और दूसरे चरण में 81 सीटों पर मतदान हो चुका है। सभी सीटों के लिए मतगणना आठ नवंबर को होगी।

LEAVE A REPLY