मेरा इस्तेमाल ‘राजनीतिक औजार’ के रूप में हो रहा है: रॉबर्ट वाड्रा

0

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद और कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा ने अपने भूमि सौदे की बीजेपी शासित हरियाणा और राजस्थान में जांच को लेकर कहा कि वह ‘राजनीतिक प्रतिघात’ का विषय हो गए हैं और उनका राजनीतिक औजार के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

वाड्रा ने कहा कि उन्हें कारोबार करने वाले किसी अन्य कारोबारी की तरह लिया जाना चाहिए और इस बात को उनकी पत्नी प्रियंका गांधी वाड्रा के राजनीतिक परिवार से नहीं जोड़ना चाहिए। साथ ही वाड्रा ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी जब भी लोगों का ध्यान बंटाना चाहती है एक राजनीतिक औजार के तौर पर उनपर हमले करती है।

उन्होंने कहा कि मेरे बारे में धारणा इतनी गहरी हो गयी है कि ऐसा लगता है जैसे कि किसी के लिए अब सच के कोई मायने नहीं रह गए हैं।

हरियाणा में जांच पर वाड्रा ने कहा कि उन्हें अब तक कोई नोटिस नहीं मिला है लेकिन उन्होंने इस संबंध में मीडिया में आयी खबरें पढ़ी है। दरअसल न्यायमूर्ति एस एन ढींगरा का एक सदस्यीय आयोग गुड़गांव के चार गांवों में वाड्रा की कंपनियों सहित कुछ कंपनियों को भूमि लाइसेंस दिए जाने के मामले में पड़ताल कर रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘जब मुझे नोटिस मिलेगा तो मैं जांच पर और ईडी के नोटिसों पर प्रतिक्रिया दूंगा। चूंकि इन कार्रवाईयों में कानूनी मुद्दे जुड़े हैं इसलिए इस स्तर पर मैं उस बारे में कोई टिप्पणी नहीं करूंगा।’’

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 17 नवंबर को कहा था कि आयोग जल्द ही अपनी रिपोर्ट पेश करेगा।

वाड्रा ने कहा कि कानून के प्रति उनकी अगाध आस्था है और उन्हें विश्वास है किसी भी राजनीतिक प्रतिशोध पर सच की जीत होगी।

वाड्रा ने कहा, ‘‘जो कुछ भी मैंने किया है या नहीं किया है, वह सार्वजनिक है जिसे कोई भी देख सकता है। यहां तक कि मीडिया के अभियानों में शामिल कुछ तथाकथित तथ्य भी उसी सूचना पर आधारित हैं जो मैंने खुद रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज और अन्य एजेंसियों को दी थी।

वाड्रा ने जोर देते हुए कहा कि उनके काम का उनके ससुराल वालों की राजनीति से कोई लेना देना नहीं है।

LEAVE A REPLY