प्रधानमंत्री अब कुर्ते की जगह 15 लाख का सूट पहनने लगे हैं: राहुल गांधी

0

बिहार में कांग्रेस के चुनाव प्रचार का आगा़ज़ करते हुए पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब कुर्ता की जगह 15 लाख के सूट पहनने लगे हैं।

एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पश्चिमी चंपारण के राम नगर में राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। राहुल ने कहा कि चाय बेचने वाले हमारे प्रधानमंत्री अब कुर्ते की जगह 15 लाख के सूट पहनने लगे हैं।

पहले राहुल गांधी ने सूट की कीमत 10 लाख बताई थी। वो वाला सूट मोदी ने ओबामा से मिलने के वक्त पहना था। लेकिन अब राहुल गांधी ने यह साफ नहीं किया की अब वो  किस सूट की बात कर रहे हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि मैंने कुछ दिन पहले कहा था कि ये जो आपकी सरकार है ये सूट-बूट की सरकार है। लेकिन यहां के लोग सूट-बूट नहीं, कुर्ता और पगड़ी पहनते हैं। रैली में राहुल ने कहा कि कपड़ों से बहुत कुछ मालूम होता है, क्या गांधी जी सूट पहनते थे?  ये केवल अपना सूट साफ रखना चाहते हैं, लेकिन हम धोती को अपनाना चाहते हैं। ये हमारी सोच है।

इतना ही नहीं, राहुल ने कहा, “मोदी फेकू था और फेंकू है”

केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए राहुल गांधी ने लोगों से पूछा कि क्या महंगाई कम हुई है ?  क्या किसी के बैंक अकाउंट में 15 लाख रुपये आए ? क्या किसी को रोजगार मिला? साथ ही उन्होंने मोदी सरकार से प्रश्न किया की अगर आप रोजगार लाना चाहते हैं तो क्या आपने रोजगार खोजने वालों से बात की? गांधी ने लोगों को भरोसा दिलाया कि अगर हमारे गठबंधन की सरकार बनती है तो हम यहां रोजगार लाएंगे।

साथ ही राहुल गांधी ने कहा कि सुषमा स्वराजजी ललित मोदी को बचा रही हैं और हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कहते हैं, “ना खाऊंगा और ना खाने दूंगा।“ इसके साथ साथ राहुल ने छत्तीसगढ़ में पीडीएस स्कैम, राजस्थान में वसुंधरा राजे सरकार और मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह की सरकार पर भी व्यापमं घोटाले को लेकर केंद्र सरकार के ऊपर निशाना साधा।

रैली में राहुल के साथ पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार और गुलाम नबी आजाद भी मौजूद रहे। साथ ही मंच पर जदयू के सांसद केसी त्यागी और  राजद से लालू के पुत्र तेजस्वी यादव भी मौजूद थे।

इस दौरान रैली में जेडीयू सांसद केसी त्यागी ने कहा कि इस बार जनता ना ते मंडल ना ही कमंडल को वोट देगी बल्कि विकास ही इस बार चुनावी मुद्दा बनेगा। साथ ही तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार की जनता बिकाऊ नहीं है, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार में अमीरों की सरकार बनाना चाहते हैं।
लालू और नीतीश की राहुल की रैली में गैरहाज़िरी पर बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चौधरी ने सफ़ाई देते हुए कहा कि वे दोनों टिकट बंटवारे के काम में व्यस्त हैं इसलिए रैली में नहीं आ पाए। इसका कोई और राजनीतिक मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए।

रैली शुरू होने से पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राहुल गांधी का पटना एयरपोर्ट पर स्वागत भी किया।

रिपोर्टों के मुताबिक इस रैली के बाद शनिवार शाम तक जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY