दिल्ली के जंतर-मंतर पर पूर्व-सैनिकों ने शुरू की ‘सैनिक एकता’ रैली

0

सैकड़ों पूर्व-सैनिकों ने आज एक ‘सैनिक एकता’ रैली का आयोजन किया। जंतर-मंतर पर रैली पर बैठे यह पूर्व सैनिक सरकार द्वारा घोषित ‘एक रैंक एक पेंशन’ (OROP) योजना को खारिज कर “ईमानदार और सच्चा न्याय” की मांग कर रहे हैं।

सुबह 10 बजे से यह रैली राष्ट्रीय राजधानी में जंतर-मंतर पर शुरू हो गई थी। रैली में देश के विभिन्न भागों से पूर्व सैनिकों ने भाग लिया है।

मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) सतबीर सिंह, भारतीय पूर्व सैनिक मूवमेंट के अध्यक्ष ने बताया की,”हमने सात मुद्दों को उठाया है और यदि सरकार उन्हें स्वीकार करती है और हमें एक कागज पर ठोस आश्वासन देती है, तो हम ये रैली खतम करने को तैयार है। ”

आगे उन्होंने कहा कि,”सरकार ने अपनी घोषणा में वीआरएस (स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना) को शामिल करके भ्रम की स्थिति पैदा कर दी है, जबकि यह डिफेन्स में मौजूद नहीं है। हालांकि, जिन लोगों ने समय से पहले सेवानिवृत्ति ले लिया है, उन लोगों को OROP के तहत आना चाहिए।”

(Also Read:How protesting ex-servicemen at Jantar Mantar reacted on OROP announcement)

इसके बाद सतबीर सिंह ने बताय कि,” इससे पहले रक्षा मंत्री ने आश्वासन दिया था कि पेंशन पे स्केल से ऊपर ले जाया जाएगा, लेकिन अब लगता है कि सरकार अपने अवधारणा से अज्ञात हो गयी है। ”

प्रदर्शनकारियों ने यह सात मांगे सूचीबद्ध की हैं, सेना में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना भी नहीं है इसलिए जो समय से पहले सेवानिवृत्ति के लिए चयन किये गए हैं उनको लाभ मिलना चाहिए।

वित्तीय वर्ष 2013-14 को आधार वर्ष होना चाहिए न कि 2013 को, वार्षिक समीकरण की पेंशन ही योजना का मूल होना चाहिए और उसमें किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाना चाहिए।

कमियों के साथ सौदा करने के लिए एक सदस्यीय आयोग स्वीकार्य नहीं किय़ा जाएगा काम से काम तीन पूर्व सैनिकों सहित पांच की एक समिति होनी चाहिए।

(Also Read: पीएम नरेंद्र मोदी ने किया दिल्ली-फरीदाबाद मेट्रो का शुभारंभ, बताया सरकार ने OROP का वादा किया पूरा)

 

 

LEAVE A REPLY