शारीरिक गतिविधियों से दुरुस्त रहती है बुजुर्गों की याददाश्त

0

शारीरिक तौर पर सक्रिय रहने वाले वृद्ध व्यक्तियों की याददाश्त सुस्त रहने वाले वृद्धों की तुलना में ज्यादा समय तक अच्छी रहती है। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है।

अमेरिका के बॉस्टन स्कूल ऑफ मेडिसिन के वैज्ञानिक स्कॉट हेस के अनुसार, “शारीरिक गतिविधियों का याददाश्त के साथ सकारात्मक रूप से जुड़ाव होता है।

Also Read:  विश्व के कुल शरणार्थी बच्चों की आधी संख्या भी नहीं जाती स्कूल: संयुक्त राष्ट्र

यह हर कोई जानता है कि नियमित तौर पर व्यायाम और अन्य शारीरिक गतिविधियां मोटापा, उच्च रक्तचाप और दिल के रोगों जैसी कई समस्याओं को दूर रखती है। लेकिन इस शोध के बाद लोगों को सक्रिय रहने के लिए अधिक प्रेरित किया जा सकेगा।”

Also Read:  मध्य प्रदेश में उग्र हुआ किसानों का आंदोलन, पुलिस फायरिंग में 5 की मौत, कर्फ्यू लगा

इस अध्ययन में 55-82 साल के 31 बुजुर्गो को शामिल किया गया था। इन लोगों ने ‘एक्टीग्राफ’ नामक छोटा सा उपकरण पहन रखा था, जो इन लोगों के द्वारा चलने-फिरने की निगरानी कर रहा था। इसी के साथ इनकी याददाश्त की क्षमता का भी आकलन किया जा रहा था।

Also Read:  बच्चों के बलात्कार: मद्रास HC ने कहा अपराधियों को नपुंसक बनाने पर हो विचार

इस अध्ययन के बाद सामने आया कि शारीरिक गतिविधियां याददाश्त को लंबे समय तक दुरुस्त बनाए रखने में अहम भूमिका निभाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here