“वन रैंक, वन पेंशन”: अब तक 4 पूर्व सैनिक अस्पताल में भर्ती  

0

‘वन रैंक, वन पेंशन, की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल पर बैठे एक और पूर्व सैनिक, हवलदार अभिलेख सिंह की हालत बिगड़ने लगी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

कल शुक्रवार के दिन वर्ष 1965, भारत-पाकिस्तान युद्ध विजय दिवस की 50वीं वर्षगांठ थी, जिसे प्रत्येक वर्ष उत्सव के रूप में मनाया जाता रहा है। ऐसा पहली बार हुआ कि पूर्व सैनिकों ने विजय दिवस मनाने से इंकार किया।

Also Read:  बैंगलोर में 4 दिन के बच्चे का अपहरण

गुरूवार के दिन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने बयान दिया था कि सही समय आने पर प्रधानमंत्री मोदी ‘वन रैंक, वन पेंशन’ की घोषणा करेंगे, जिसके बाद अनशन कर रहे पूर्व सैनिकों ने कल गृह मंत्री से मुलाक़ात भी की। सूत्रों के मुताबिक सरकार सैनिकों के दबाव के समक्ष झुकी हुई नजर नहीं आना चाहती।

Also Read:  सांस्कृतिक राष्ट्वाद का जश्न, ICU में ही गरबा का आयोजन

15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यक्तव्य में वन रैंक वन पेंशन की घोषणा ना होने के कारण पूर्व सैनिक केंद्र सरकार से नाराज़ हैं। ‘वन रैंक, वन पेंशन’ की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर प्रतिदिन पूर्व सैनिकों की संख्या बढ़ती जा रही जो केंद्र सरकार के लिए चिंता का विषय है।

Also Read:  आगरा में रोगियों के लिए ठेले और कचरे के डिब्बों के लिए स्ट्रेचर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here