मथुरा हिंसा : मरने वालों की संख्या 24 हुई, 320 से अधिक गिरफ्तार

0

पुलिस और जवाहर बाग में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा जमाए बैठे लोगों के बीच हुए जबर्दस्त संघर्ष में एक पुलिस अधीक्षक और एक थाना प्रभारी सहित 24 लोग मारे गए हैं । पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है और 320 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है । क्षेत्र में तनाव बरकरार है ।

पीटीआइ भाषा के अनुसार, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मथुरा के मंडलायुक्त को घटना की जांच कराने के आदेश दिए हैं ।

Also Read:  दिल्ली विधानसभा में AAP विधायक ने दिखाया EVM टेंपरिंग का LIVE डेमो, बताया कैसे होती है छेड़छाड़

शहर स्थित जवाहर बाग में करीब तीन हजार लोगों ने 260 एकड़ से अधिक के एक भूखंड पर पिछले दो साल से अवैध कब्जा कर रखा था । उन्होंने वहां शिविर स्थापित कर लिया था ।

केंद्र ने उत्तर प्रदेश सरकार से घटना पर रिपोर्ट मांगी है तथा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने यादव से बात की और उन्हें सभी आवश्यक मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया ।

Also Read:  भारत की स्कोर्पियन पनडुब्बी से जुड़ा गोपनीय डाटा लीक, नौसेना में खलबली

राज्य के पुलिस महानिदेशक जावीद :रिपीट: जावीद अहमद के अनुसार पुलिसकर्मी जब अतिक्रमणकारियों को हटाने के लिए इलाके की टोह लेने के उद्देश्य से पहुंचे तो अवैध कब्जा जमाए बैठे लोगों ने पुलिसकर्मियों पर ‘‘बिना उकसावे’’ के गोलीबारी की, पथरवा किया और लाठी-डंडों से हमला बोल दिया । इससे नगर पुलिस अधीक्षक मुकुल द्विवेदी और फरह थाना प्रभारी संतोष यादव की मौत हो गई ।

Also Read:  सुनील जोशी हत्याकांड: MP पुलिस ने शिवराज सरकार को लिखा- साध्वी प्रज्ञा की रिहाई के खिलाफ अपील का नहीं बनता कोई आधार

उन्होंने कहा, ‘‘पुलिस टीमों ने खुद को पुनर्गठित किया । दो शेल्टरों को खाली कराए जाने के बाद प्रदर्शनकारियों ने वहां रखे गैस सिलेंडरों और गोला बारूद में आग लगा दी जिससे अनेक विस्फोट हुए ।’’ अहमद ने कहा, ‘‘हिंसा में 22 दंगाई मारे गए । इनमें से 11 लोग प्रदर्शनकारियों द्वारा लगाई गई आग से मारे गए ।’’ मृतकों में एक महिला भी शामिल है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here