अपने खिलाफ खबर से नाराज़ भाजपा नेता ने पत्रकार पर तलवार से हमला किया

0

इरशाद अली 

अच्छे दिनों के परिणाम अब सारे देश में दिखाई दे रही है। लोकतंत्र की नयी परिभाषा अपने ही तरीके से बनाने वालो को सरकार किस तरह से प्रोत्साहन दे रही है ये सारी दुनिया के सामने आ गया है।

मध्य प्रदेश के जबलपुर में स्थानीय हिन्दी दैनिक के पत्रकार पर जानलेवा हमला कर भाजपा नेता और उसके गुन्डों ने फिर से ये बता दिया है ये दौर ऐसे लोगों के सरक्षंण का दौर है, जो जब चाहे जिसे चाहे मार सकता है और किसी तरह की कोई जवाबदेही ना सरकार की बनती है और ना प्रशासन की।

Also Read:  गोवा में BJP के खिलाफ सड़को पर उतरे लोग, सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ 'मनोहर पर्रिकर दिल्ली वापिस जाओ'

घटना कल रात जबलपुर की है जब स्थानीय हिन्दी दैनिक के पत्रकार को भाजपा नेता के खिलाफ खबर छापने का खमियाजा अपने उपर हुए गम्भीर हमले के रूप में चुकाना पड़ा।

जबलपुर के ये दबंग भाजपा नेता ह्दयेश राजपूत हैं जो कि वहीं से पार्षद अपनी पत्नी रीना राजपूत के पति भी है, इलाके में भारी उत्पाद मचाते है और दबंगई दिखाते फिरते है। स्थानीय हिन्दी दैनिक के पत्रकार आशीष विश्वकर्मा ने इस भाजपा नेता की करतूत वाली एक खबर दो दिन पहले अपने अखबार में छापी थी।

Congress advt 2

जिससे इस नेता का पारा सातवे आसमान पर चढ़ गया और बदले की भावना से इसने कथित तौर पर दो बाद पत्रकार की हत्या के इरादे से जन्मदिन की बधाई देने हेतू अपने घर बुलाया और बताया कि वो खबर छापने से नाराज नहीं है।

Also Read:  श्रद्धा कपूर ने अपने परिवार के साथ मनाया जन्मदिन, देखिए तस्वीरें

जबकि आशीष विश्वकर्मा इस दबंग भाजपा नेता के षणयंत्र से अंजान था। शुक्रवार की शाम जब पत्रकार इस नेता के घर पहुंचा वहां इसने अपने भाई नीरज के साथ मिलकर तलवार और बेसबाॅल के डंडे से हमला कर आशीष को लहूलुहान कर दिया।

क्योंकि ये दबंब भाजपा नेता जानता था कि उसका कुछ नहीं होने वाला है जब इस सरकार में देशभर में खुलेेआम किसी के घर में घुसकर उसकी हत्या की जा सकती है तो उसका कोई क्या बिगाड़ लेगा। गम्भीर रूप से घायल हुए आशीष ने किसी तरह वहां से भागकर अपनी जान बचाई और फोन कर अपने परिजनों को हमले के बारे में बताया। आशीष को पहले इलाज के लिए मेडिकल कालेज में भर्ती कराया लेकिन हालात बिगड़ने पर बाद में जबलपुर हास्पिटल रेफर करना पड़ा। आशीष पर हुआ ये हमला प्रेस की स्वत्रंतत्रा पर हमला नहीं बल्कि लोकतंत्र की मर्यादा पर हमला है।

Also Read:  उरी हमले पर वीके सिंह ने कहा- खामियों की जांच, गुस्से से प्रभावित हुए बिना कार्रवाई की जरूरत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here