दिल्ली के लोगों को फिर से है आॅड-ईवन का इंतजार

0
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पहल का जादू लोगों के सर चढ़कर बोल रहा है। न्यायालय द्वारा दिल्ली को गैस चैम्बर कहे जाने के बाद दिल्ली सरकार ने इस पर तुरन्त अमल करते हुए दिल्ली के लोगों के बीच आॅड-ईवन कसैंप्ट को उतारा था।
इस योजना को लाने से पहले अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार को भारी विरोध झेलना पड़ा था लेकिन बावूजद सरकार अपने फैसले से नहीं हटी थी और 1 जनवरी से 15 जनवरी तक इस फाॅमूले को लोगों के बीच उतारा गया।
जब आॅड-ईवन के परिणाम लोगों के सामने आए तो वे भारी सूकुन देने वाले थे। दिल्ली के अलावा अन्य प्रदेशों में भी आॅड-ईवन कसैंप्ट की जमकर सराहना की गई। अब लोगों को फिर से इस योजना का इंतजार है।
इसी को लेकर लोकल सर्किल्स नाम की संस्था ने एक सर्वे किया और ऑड ईवन फॉर्मूले को लेकर दिल्ली के लोगों से कई सवाल पूछे कि क्या फिर से दिल्ली में ऑड ईवन लागू हो और क्या सुधार किए जा सकते हैं इस फॉर्मूले में:

पहला सवाल- क्या ट्रैफिक घटाने के लिए ऑड ईवन नियम फिर से लागू हो?

Also Read:  सोशल मीडिया: 'वाह अक्षय... अब सीधे प्रधानमंत्री से ही अपनी फिल्म का प्रमोशन करवा रहे हो'

हां 66%

ना- 34%

कुल वोटर – 13429

दूसरा सवाल- क्या ऑड ईवन लागू हो तो ऑटो टैक्सी को भाड़ा बढ़ाने की इजाजत नहीं मिलनी चाहिए?

हां- 92%

ना- 8%

कुल वोटर – 13262

तीसरा सवाल- क्या आपको लगता है ऑड-ईवन के दौरान ऑटो टैक्सी ने आपसे ज्यादा पैसे लिए?

हां- 87%

ना- 13%

कुल वोटर – 11852

गौरतलब है कि लोकल सर्किल डॉट कॉम ने इससे पहले भी एक सर्वे किया था, उस वक्त ऑड-ईवन फॉर्मूला जारी था और उस वक्त जो नतीजे सामने आए थे वो कुछ चौंकाने वाले थे। पढ़ें क्या थे सवाल:

पहला सवाल: क्या आप मानते हैं कि दिल्ली में ऑड-ईवन नियम प्रभावी तरीके से लागू हुआ?

Also Read:  उम्मीद है प्रधानमंत्री मोदी पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई के लिए रूस, चीन को राजी करेंगे : दिग्विजय सिंह

कुल 13 हजार 791 मतदाताओं में से 58% ने हां में जवाब दिया जबकि 42 % ने नहीं में जवाब दिया। यानी ज्यादा लोग मानते हैं कि नियम प्रभावी तरीके से लागू हुआ।

दूसरा सवाल: ऑड-ईवन नियम के दौरान आपने किस तरह सफर किया?

-11 हजार 831 लोगों में से 44% लोगों ने कहा कि उन्होंने टैक्सी, ऑटो या पब्लिक ट्रांसपोर्ट से सफर किया। 39% लोगों ने दावा किया कि उन्होंने पहले से उनके पास मौजूद ऑड-ईवन गाड़ियों का इस्तेमाल किया। 9% लोगों ने दावा किया कि उन्होंने बाइक का इस्तेमाल किया। 8% लोगों ने कहा कि उन्होंने कार पूलिंग की।

तीसरा सवाल: क्या आपको लगता है कि ऑड-ईवन नियम के दौरान ऑटो/टैक्सी वालों ने आपसे ज्यादा पैसे लिए?

11 हजार 852 ने इस पर अपनी राय दी। 87% लोगों ने माना कि ऑटो टैक्सी वालों ने उनसे ज्यादा पैसे ऐंठे जबकि 13% लोगों ने कहा कि उनसे वाजिब भाड़ा वसूला गया।

Also Read:  बगावत कर सकते हैं शरद यादव, राहुल गांधी से की मुलाकात, असंतुष्ट JDU नेताओं की शाम को बुलाई बैठक

चौथा सवाल: अगर ऑड-ईवन नियम जारी रखा जाता है तो क्या आप दूसरी कार खरीदने के बारे में सोचेंगे?

11,785 लोगों में से 43% ने कहा कि हां वो दूसरी कार खरीदने के बारे में सोचेंगे जबकि 42% ने कहा कि नहीं वो ऐसा नहीं करेंगे। 15% दिल्ली वालों ने कहा कि उनके पास पहले से ऑड-ईवन नंबर की गाड़ियां हैं।

पांचवां सवाल- क्या ऑड-ईवन नियम को 15 जनवरी के बाद भी लागू किया जाना चाहिए ?

-12,918 दिल्ली वालों में से 42% लोगों ने कहा कि हां इस नियम को जारी रखा जाना चाहिए जबकि 58% लोगों ने कहा कि इसे जारी नहीं रखा जाना चाहिए। यानी दिल्ली के लोगों का बड़ा तबका ऑड-ईवन नियम को जारी रखने के पक्ष में नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here