…जुकरबर्ग दान करेंगे फेसबुक के 99 प्रतिशत शेयर

2

बेटी के जन्म से खुश दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन सोशल नेटवर्क फेसबुक के संस्थापक व सीईओ मार्क जुकरबर्ग आने वाली पीढ़ी की बेहतरी के लिए फेसबुक के 99 प्रतिशत शेयर दान करेंगे।

जुकरबर्ग की पत्नी प्रिसिला चान ने पिछले सप्ताह ही बेटी मैक्स को जन्म दिया है। फेसबुक के संस्थापक ने ‘बेटी के नाम पत्र’ में कंपनी के 99 प्रतिशत शेयर मानवीय कार्यो के लिए दान करने की बात कही है। यह पत्र उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया है।

Also Read:  सरकार ने फेसबुक से साल के पहले 6 महीने में मांगी 8 हजार से ज्यादा खातों की जानकारी

दंपति ने पत्र में अपनी बेटी से वादा किया है कि वे आने वाली पीढ़ी के अच्छे भविष्य के लिए संपत्ति का दान अपने जीवन में ही चैरिटेबल डोनेशन, निजी निवेश तथा सरकारी-नीति सुधार को बढ़ावा देते हुए करेंगे।

Also Read:  बड़ी सोशल नेटवर्किंग के छोटे दिखावे

इसके लिए एक नए संगठन चान जुकरबर्ग इनिशिएटिव का गठन किया जाएगा, जिसका नियंत्रण दंपति के पास ही होगा।

31 वर्षीय सिलिकॉन वैली उद्यमी ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, “शुरुआत में हम शिक्षा, बीमारी से जंग, लोगों के बीच संपर्क को बढ़ावा देने और मजबूत समुदायों के निर्माण पर ध्यान देंगे।”

Also Read:  शूटिंग केे दौरान रजनीकांत के पैर में लगी चोट

2 COMMENTS

  1. Bhanu Bhaskar
    8 hrs ·

    दिल्ली
    विधानसभा ने 30 जून को माइक तोड़ने पर बीजेपी विधायक ओपी शर्मा पर आज
    18560 रुपये का जुर्माना लगाया है। सदन में साफ़तौर पर कहा गया है- ये जनता
    के टैक्स के पैसे हैं, इसलिए जनप्रतिनिधि को पब्लिक प्रॉपर्टी का सम्मान
    करना चाहिए |

  2. Bhanu Bhaskar
    6 hrs · Edited ·

    दिल्ली
    सरकार ने विधायकों का वेतन 12,000 रुपये प्रतिमाह से बढ़ाकर 50,000 रुपये
    किया है, इसके पीछे हमारा मकसद- जनप्रतिनिधि को अच्छी सैलरी दो, उसके बाद
    सारा भ्रष्टाचार रोक दो | सैलरी और भत्ता बढ़ने से सरकार को प्रति महीने
    1.25 करोड़ के आस-पास खर्च होगा, पर विधायक ईमानदार होगा तो – एक पुल के
    निर्माण में सरकार ने लगभग 100 करोड़ बचा लिए | डेनमार्क दुनिया का सबसे
    ईमानदार देश है ,डेनमार्क में नेताओं की सैलरी कॉर्पोरेट स्तर की है, मकसद
    -राजनीति में बेस्ट ब्रेन आ सके और आने के बाद कम सैलरी
    के कारण भ्रष्ट न बन जायें , उसके बाद सारा भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त
    कानून डेनमार्क में है | लोकपाल कानून डेनमार्क 1950 के दशक में पास कर
    चुका है | हमारा साफ़ कहना है – मुखिया, सरपंच, पार्षद की सैलरी अच्छी हो,
    उसके बाद सारा भ्रष्टाचार बंद | अगर पूरे देश में नेताओं को कॉर्पोरेट स्तर
    का सैलरी दिया जाये तो पूरे देश का खर्च अतिरिक्त सालाना होगा- 3000-4000
    करोड़ , पर पूरे देश में केंद्र सरकार और राज्य सरकार को मिलाकर हर वर्ष
    भ्रष्टाचार की राशि – प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कम से कम 4 लाख करोड़,
    इसमें नेता से लेकर नीचे तक अधिकारी के खाने की रकम है |
    Like

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here