गुणवत्ता में सुधार लाएं शैक्षिक संस्थान : राष्ट्रपति

0

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सोमवार को देश के उच्च शिक्षा संस्थानों से शिक्षा की गुणवत्ता, शिक्षकों एवं अनुसंधान की गुणवत्ता में सुधार लाने का आह्वान किया। मुखर्जी ने कहा कि विश्वविद्यालयों और उच्च शैक्षिक संस्थानों को रैंकिंग प्रणाली को गंभीरता से लेना चाहिए।

Also Read:  'ऐनिमल फार्म' को लेकर ट्विटर पर उड़े मज़ाक पर शिल्पा शेट्टी ने किया अपना बचाव

राष्ट्रपति भवन में ‘द प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया एंड द गवर्नेस ऑफ हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूशंस’ शीर्षक वाले पुस्तक की पहली प्रति ग्रहण करते हुए राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा कि वह लगातार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर जोर देते रहे हैं।

Congress advt 2

राष्ट्रपति ने कहा, “ऐसा नहीं है कि हमारे देश में अपेक्षित प्रतिभा या योग्यता की कमी है। पिछले कुछ वर्षो से किए जा रहे गंभीर प्रयासों का अच्छा परिणाम दिखाई दे रहा है और हाल ही में भारत के दो शैक्षिक संस्थानों को अंतर्राष्ट्रीय रैंकिंग में शीर्ष-200 संस्थानों में जगह मिली है।”

Also Read:  राष्ट्रविरोधी शब्द का प्रयोग अल्पमत वाली सरकार के घमंड को दर्शाता है- अर्मत्य सेन

मुखर्जी ने उम्मीद जताई कि भविष्य में अन्य शैक्षिक संस्थानों की रैंकिंग में भी सुधार आएगा।

मुखर्जी ने पुस्तक के लेखकों और ओ. पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी को भारत में उच्च शिक्षा की स्थिति बयां करने वाली पुस्तक लाने के लिए बधाई दी।

Also Read:  स्टार्टअप पर भारत देर से जागा है, मैं भी इसके लिये जिम्मेदार हूं: राष्ट्रपति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here