कर्त्तव्य के लिए आईएएस अफसर ने कब्रिस्तान में गुज़ारी रात

0

जहां आजकल जुर्म को बढ़ता देख लोगों का पुलिस पर से विश्वास उठता जा रहा है, वहीं कुछ ऐसे अफसर भी है जो फ़र्ज़ निभाकर अपनी पद का सम्मान बनाये रखते हैं।

एक दिन पहले नासिक के कुम्भ मेले में एक बहादुर पुलिस अफसर, मनोज बरहते ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए एक इंसान को आत्महत्या करने से बचाया थ.

उधर दूसरी ओर ऐसा ही कुछ एक आईएएस अफसर यू सगायम ने, सबूतों की सुरक्षा के लिए कब्रिस्तान में पूरी रात गुज़ार कर कर दी। अपने फ़र्ज़ को निभाने की ऐसी निष्ठा बहुत मुश्किल से देखने को मिलती है।

Also Read:  घर वाले मृत समझकर ले जा रहे थे श्मशान घाट, लेकिन बीच रास्ते ही अचानक खड़ा हो गया मुर्दा

सारा मामला तमिलनाडु के मदुरई में 16 हज़ार करोड़ के ग्रेनाइट घोटाले का है। इस घोटाले की जांच के लिए आईएएस अफसर यू सगायम को हाई कोर्ट ने लीगल कमिशनर के तौर पर नियुक्त किया है।

grave

शनिवार को इस घोटाले से जुड़े एक दूसरे मामले में दफनाए गए कुछ शवों को फॉरेंसिक जांच के लिए बहार निकालना था। सगायम कल शाम मदुरई से जुड़े एक गावों के एक कब्रिस्तान में अपनी पूरी टीम के साथ पहुंचे। लेकिन उस वक़्त जिला प्रशासन और पुलिस ने खुदाई के लिए अक्षमता ज़ाहिर करते हुए मना कर दिया। जिसके बाद वापस लौटने की बजाए सगायम ने वहीं कब्रिस्तान में रात बिताने का तय किया।

Also Read:  जल्लीकट्टू के मुद्दे पर भाजपा नेता ने सांप्रदायिकता फैलाने की कोशिश की तो तमिल वासियो से कुछ ऐसा करारा जवाब मिला

हालांकि उनके सहयोगी अधिकारीयों ने उनको इस बात पर काफी समझाया और लौटने को कहा लेकिन सगायम अपनी बात पर अड़े रहे। उनके सहयोगी अधिकारी ने बताया कि सगायम इस बात से परेशान थे कि कहीं उनके जाने के बाद मिले हुए सुबूतों के साथ किसी तरह की छेड़-छाड़ न हो। रात को उसी कब्रिस्तान में सगायम के लिए एक चारपाई डलवा दी गयी।

Also Read:  ISI की मदद से पाकिस्तान में छापे जा रहे है 2000 के नकली नोट, BSF ने 2000 के 40 नकली नोट किए बरामद

अगले दिन यानि रविवार को सुबह होते ही सगायम सर्किट हाउस चले गए। जहां से तैयार होकर फिर से मौके पर पहुंच गए। तुरंत ही खुदाई शुरू कर दी गयी और जांच में कुछ शवों के अवशेष मिले। इस घोटाले के मुख्या आरोपी मेलूर के ग्रेनाइट कारोबारी पीआर पलानिस्वाम्य है। इस पर आरोप है कि कारोबार को बढ़ाने के लिए उन्होंने 12 लोगोंकी बलि दी है। और उन शवों को नदी के किनारे एक कब्रिस्तान में दफनाया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here