इशरत जहाँ एनकाउंटर मामले में गुजरात पुलिस को सुप्रीम कोर्ट से रहत नहीं मिली

0

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक PIL को को सुनने से इंकार कर दिया जिसमें हेडली के बयानों को ध्यान में रख कर 2004 के इशरत जहां के एनकाउंटर मामले में गुजरात पुलिस के कई अधिकारीयों के ऊपर लगे आपराधिक मामलों को खारिज करने के लिए कहा गया था।

Also Read:  प्रधानमंत्री मोदी के गोद लिए हुए गांव जयापुर में, 500-1000 रुपये के नोट बदलवाने के लिए चप्पल से लगी है लाईन

जस्टिस पी सी घोष और जस्टिस अमिताभ रॉय की बेंच ने कहा, “आर्टिकल 32 का आखिर फिर क्या उद्देश्य है? आप इस तरह का केस इस के अंतर्गत दायर नहीं कर सकते हैं । अगर आप चाहें तो आर्टिकल 226 के अंतर्गत हाई कोर्ट जा सकते हैं । ”

Also Read:  'भारत में बहुत अधिक चुनाव हुए हैं, इससे धारणा बन गई है कि यह भी एक लोकतंत्र है'

सर्वोच्च न्यायलय ने कहा कि वह उनकी याचिका को सिरे से ख़ारिज नहीं कर रही है ताकि  याचिकाकर्ता निचली अदालतों में अपनी गुहार लगा सके ।

इशरत जहाँ के एनकाउंटर मामले में DIG बंजारा सहित गुजरात के कई पुलिस अधिकारीयों के विरुद्ध इस समय मुंबई की एक अदालत में केस चल रहा है |

Also Read:  नए तथ्यों ने अमिताभ बच्चन के दावों को ग़लत साबित किया, फ़ोन के ज़रिये विदेश में बनी कंपनियों की बोर्ड मीटिंग में हुए थे शामिल

याचिका में इस बात की दलील दी गई थी कि डेविड हेडली के बयान के बाद एनकाउंटर में मारे गए चारों लोगों के आतंकवादी होने की पुष्टि हो गई थी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here