दिल्ली पुलिस ने सरकार के ‘कार-फ्री डे’ कार्यक्रम को नामंजूर किया

0

एक बार फिर दिल्ली पुलिस और आम आदमी पार्टी की सरकार में भिड़ंत हो गई है। यह भिड़ंत 22 अक्टूबर को होने वाले ‘कार-फ्री डे’ कार्यक्रम को लेकर हो रही है। दरअसल AAP सरकार ने 22 अक्टूबर को दिल्ली में ‘कार-फ्री डे’ कार्यक्रम मनाना चाह रही है, लेकिन इस योजना को दिल्ली पुलिस ने यह कहते हुए मंजूरी देने से इनकार कर दिया कि सरकार ने इसे लेकर कोई फैसला करने से पहले पुलिस बल से विचार विमर्श नहीं किया।

Also Read:  महिलाओं की इज्ज़त के साथ खिलवाड़ करने वाले क्रेजी सुमित पर दिल्ली पुलिस की नज़र

दिल्ली सरकार केे मुख्य सचिव केके शर्मा को लिखी चिट्ठी में पुलिस कमिश्नर बी.एस. बस्सी ने लिखा है कि कार्यक्रम मनाने के लिए 22 अक्टूबर का दिन चुना गया है। लेकिन इसी दिन लोग दशहरा मनाएंगे, इसलिए यह  ‘जल्दबाजी में लिया गया काफी अव्यवहारिक कदम’ लगता है।

Also Read:  गीता जल्द ही पाकिस्तान से भारत लाई जाएगी

इसे लेकर AAP नेता और परिवहन मंत्री गोपाल राय ने कहा कि ‘कार-फ्री डे’ के रास्ते में राजनीतिक अहम नहीं आना चाहिए, क्योंकि इसका उद्देश्य लोगों को सार्वजनिक परिवहन के इस्तेमाल के लिए प्रेरित करना और दिल्ली की हवा को स्वच्छ बनाने के लिए प्रदूषण का स्तर कम करना है। अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार लाल किला और इंडिया गेट के बीच पड़ने वाले रास्ते पर ‘कार-फ्री डे’ मनाना चाहती है।

Also Read:  जेएनयू के लापता छात्र नजीब के परिवार का दिल्ली पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप

मिल रही जानकारी के मुताबिक इसे लेकर गोपाल राय जल्द ही उपराज्यपाल नजीब जंग से मिलकर पुलिस के अनुचित रुख पर शिकायत भी कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here