दिल्ली फिर से तैयार है आॅड-इवन के लिये, विरोधियों की बंदूकों से गोलियां फुस्स

0

इरशाद अली

दिल्ली वाले एक फिर से आॅड-इवन से जुड़ने के लिये तैयार। पिछली बार आॅड-इवन के आने से पहले जिस तरह से आम आदमी पार्टी और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को घेरा गया था उससे लगता था कि आॅड-इवन की सकारात्मक पहल राजनीति की भेंट चढ़ जाएगी। मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के स्तर पर कोर्ट की फटकार के फलस्वरूप एक कारगर कदम उठाने के लिये लागू किया था।

पिछले 15 दिनों के आॅड-इवन प्लान से भले ही प्रदूषण स्तर में कमी ना आई हो लेकिन दिल्ली वालों को यातायात व्यवस्था में सुचारूपन और जाम जैसी किल्लतों से बचने का सुनहरी मौका जरूर मिला। यहां इस योजना से मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को अप्रत्यक्ष लाभ मिल गया जिसकी उन्होंने कल्पना भी नहीं कि थी। दिल्ली वालों ने दिल से आॅड-इवन को कबूल किया था और बेहतर परिणाम पर खुशी भी जाहिर की थी।

विरोधियों के मुंह अचानक से बंद हो गए थे। उनके इस आॅड-इवन प्लान पर कांग्रेस के दिग्गजों से लेकर भाजपा के रणनीतिकारों ने अपनी-अपनी कमान के जहरीले तीर फैंके थे, लेकिन इस बार विरोधियों की बंदूकों से गोलियों फुस्स हो चुकी हैं।

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल फुले नहीं समा रहे है और सभी प्रमुख रोडों पर मुस्कारते हुए होर्डिग्र्स की शक्ल में दोबारा से आॅड-इवन लागू करने के फरमान की मुनादी करते नजर आते है। इसी हफ्ते एलजी नजीबजंग साहब ने आॅड-इवन पर अच्छी प्रतिक्रिया नहीं दी थी लेकिन फिर भी लोगों दोबार से आॅड-इवन को लेकर उत्सुकता है।

दिल्ली के लोग साफ और खुली सड़के पसन्द करते है। साफ खुली सड़के आज दिल्ली के लिये एक सपने के जैसी है और अगर आॅड-इवन के बहाने ये सपना सच होता नजर आ रहा है तो दिल्ली वाले इसके लिये तैयार है।

LEAVE A REPLY